Agriculture News :बेहतर फसल वृद्धि और बेहतर उपज के लिए उर्वरकों का उपयोग किया जाता है। लेकिन अक्सर किसान (Farmer) अंधाधुंध उर्वरकों का प्रयोग करते हैं, जो मिट्टी की उर्वरता (Soil Fertility) और फसल की वृद्धि के साथ-साथ उत्पादन पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

ऐसे में आज हम इस लेख में जानकारी देने जा रहे हैं कि किसान डीएपी और यूरिया उर्वरक(Urea Fertilizer) का सही तरीके से उपयोग कैसे करें, ताकि अधिक से अधिक फसलों का उत्पादन किया जा सके।

यदि किसानों को फसलों में खाद डालने का सही तरीका पता हो तो खेतों में फसलें फूलने लगती हैं और किसानों को अधिक आय(Farmer Income) भी होती है। वास्तव में, उर्वरक का उपयोग फसलों के लिए उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि मनुष्यों के लिए भोजन। लेकिन अक्सर जानकारी की कमी के कारण किसान अधिक फसल प्राप्त करने के लालच में अधिक उर्वरकों का प्रयोग करते हैं, जो फसलों के लिए हानिकारक होता है।

यह मानव स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है। ऐसे में किसानों के लिए उर्वरक उपयोग (Fertilizer Use) के बारे में उचित जानकारी होना बहुत जरूरी है, इसलिए आज के लेख में हम किसानों के लिए डीएपी(DAP) और यूरिया उर्वरक(Urea Fertilizer) के उपयोग के बारे में जानकारी लेकर आए हैं।

डाई-अमोनियम फॉस्फेट उर्वरक DAP

डीएपी DAP 020-21 में 119.19 लाख टन की बिक्री के साथ भारत में दूसरा सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला उर्वरक है।

इन उर्वरकों को बुवाई से पहले या बुवाई के दौरान लगाया जाता है, क्योंकि इनमें फास्फोरस की मात्रा अधिक होती है, जो जड़ों की स्थापना और विकास सुनिश्चित करता है।

यदि आप इसका उपयोग नहीं करते हैं, तो हो सकता है कि पौधा अपने सामान्य आकार में न बढ़े क्योंकि प्राकृतिक रूप से विकसित होने में बहुत अधिक समय लगता है।

DAP में 46% फास्फोरस (P)और 18% नाइट्रोजन (N) होता है।

हाल ही में सरकार ने डीएपी पर सब्सिडी में 137 फीसदी की बढ़ोतरी की घोषणा की है।

डीएपी पर सब्सिडी पोषक तत्वों पर आधारित सब्सिडी है, जिसमें पोषक तत्वों की दरें अलग-अलग होती हैं।

DAP का उपयोग कैसे करें

यदि किसान फसलों में डीएपी का उपयोग करना चाहते हैं तो वे प्रति हेक्टेयर पेड़ों की संख्या के अनुसार डीएपी का उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि 1 हेक्टेयर के लिए 100 किलोग्राम डीएपी का उपयोग किया जाता है, तो इससे फसल की वृद्धि में सुधार, फसल की बेहतर वृद्धि और उपज में सुधार होता है।

यूरिया का उपयोग कैसे करें

यूरिया उर्वरक का मुख्य कार्य फसलों की वृद्धि को बढ़ावा देने के साथ-साथ नाइट्रोजन प्रदान करना है। इससे पौधों को ताजा और तेजी से बढ़ने में मदद मिलती है।

यूरिया का व्यापक रूप से कृषि में उर्वरक के रूप में उपयोग किया जाता है।

उच्च नाइट्रोजन सामग्री और कम उत्पादन लागत यूरिया उर्वरक की विशेषताएं हैं।

यूरिया सभी प्रकार की फसलों और मिट्टी के लिए सर्वोत्तम उर्वरकों में से एक है।

अगर किसान अपनी फसलों में यूरिया का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो एक फॉर्मूला है।

दरअसल किसान यूरिया का इस्तेमाल अपने खेत के हिसाब से कर सकते हैं।

यानी खाद की मात्रा किलो/हेक्टेयर = किलो/हेक्टेयर खाद में पोषक तत्व% पोषक तत्व x 100 का सूत्र अपना सकते हैं।

एक अनुमान के अनुसार प्रति एकड़ 200 पौंड यूरिया डाला जाता है, जिससे फसल को जोश मिलता है और फसल से बंपर पैदावार होती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *