Ajab Gajab News : Aliens used to live on Mars, but this mistake ended their existence; Scientists claim

Ajab Gajab News : अंतरिक्ष की दुनिया बहुत ही रहस्यमयी है, जहां इंसान अभी कुछ ही स्तरों तक पहुंचे हैं, लेकिन वे अभी भी इसके बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। मंगल ग्रह पर जीवन पर काफी समय से वैज्ञानिक(scientist) शोध (Research) कर रहे हैं।

मंगल (Mars) पर भी पृथ्वी (Earth)की तरह जीवन था, लेकिन धीरे-धीरे उसकी मृत्यु हो गई। इस संबंध में वैज्ञानिकों ने एक बड़ा दावा किया है कि लाल ग्रह पर जीवन एलियंस (aliens) के कारण समाप्त हुआ और यह बंजर हो गया।

नेचर एस्ट्रोनॉमी में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक अरबों साल पहले मंगल पर पृथ्वी जैसा वातावरण था। वहाँ जीवन था लेकिन परग्रही वातावरण बदल गया और जीवन वहीं समाप्त हो गया।

एलियंस ने खत्म किया अपना वजूद

वैज्ञानिकों के नए शोध के अनुसार, लाखों साल पहले मंगल पर पृथ्वी जैसा वातावरण था। वैज्ञानिकों ने एक बड़ा दावा किया है किएलियंस ने बदल दिया माहौल, मंगल पर जीवन खत्म। डेली स्टार में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि मंगल ग्रह पर जलवायु को बदलकर एलियंस ने अपना अस्तित्व मिटा दिया।

अध्ययन में पाया गया कि पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व और मंगल पर इसके विलुप्त होने का कारण दोनों ग्रहों की गैस संरचना और सूर्य से उनकी दूरी में अंतर है। जलवायु परिवर्तन के कारण मंगल ग्रह का तापमान इतना गिर गया कि वह बंजर हो गया।

तापमान -57 डिग्री . पहुंचा

अध्ययन के अनुसार, जब लाल ग्रह पर जीवन फल-फूल रहा था, तब औसत तापमान 10 से 20 डिग्री सेल्सियस रहा होगा, लेकिन जैसे-जैसे रोगाणुओं की संख्या बढ़ी, तापमान शून्य से 57 डिग्री सेल्सियस के आसपास गिर गया।

एक खगोलशास्त्री और अध्ययन के प्रमुख बोरिस के अनुसार, जीवन के तत्व ब्रह्मांड में हर जगह हैं। ऐसे में ब्रह्मांड में जीवन नियमित रूप से फलता-फूलता रहता है, लेकिन जीवन के लिए परिस्थितियां समाप्त हो जाती हैं।

मंगल ग्रह पर, क्योंकि सूक्ष्मजीव, यानी रोगाणु, मीथेन का उत्पादन करने के लिए हाइड्रोजन का उपयोग करते हैं। इसने धीरे-धीरे मंगल के ट्रैपिंग सिस्टम को नष्ट कर दिया, अंततः मंगल को रहने योग्य बनाने के लिए पर्याप्त ठंडा कर दिया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *