Chili Farming : किसानों की आय बढ़ाने के लिए भारतीय वैज्ञानिक हमेशा तरह-तरह के शोध कर रहे हैं। भारतीय शोधकर्ता फसलों की विभिन्न किस्मों का विकास करते हैं ताकि किसान अधिक उपज प्राप्त कर सकें और आर्थिक समृद्धि प्राप्त कर सकें। अब इसी क्रम में वाराणसी में ICAR- भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान ने मिर्च की एक अद्भुत किस्म विकसित की है।

हैरतअंगेज होने की वजह यह है कि मिर्च की यह नई विकसित किस्म सिर्फ खाने के लिए ही नहीं बल्कि सौंदर्य प्रसाधन बनाने के काम भी आती है। दावा किया जा रहा है कि मिर्च पाउडर की इस नई किस्म का इस्तेमाल सौंदर्य प्रसाधन बनाने में बिना किसी रुकावट के किया जा सकता है।

इसलिए भारतीय शोधकर्ताओं की इस खोज की हर जगह सराहना हो रही है। आज हम भी भारतीय शोधकर्ताओं द्वारा विकसित मिर्च की इस नई किस्म के बारे में विस्तार से लेकिन संक्षेप में जानने वाले हैं।

उत्तर प्रदेश राज्य में ICAR-भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान द्वारा विकसित मिर्च की नई किस्म को VPBC-535 (काशी सिंदूरी) नाम दिया गया है। तो आइए जानें काली मिर्च की किस्म VPBC-535 की विशेषताएं।

अब जानिए इस नस्ल के बारे में-

VPBC-535 किस्म में 15 प्रतिशत ओलियोरेसिन होता है। इस किस्म से सामान्य मिर्च से अधिक उत्पादन होता है। क्योंकि इसमें खाद का प्रयोग अधिक होता है इस काली मिर्च की खेती के लिए प्रति हेक्टेयर 400 से 500 ग्राम बीज की आवश्यकता होती है|

इसकी खेती रबी और खरीफ दोनों मौसमों में की जा सकती है।

जो किसान इस किस्म को वैज्ञानिक तरीके से लगाने की योजना बना रहे हैं उन्हें जुलाई/अगस्त के महीने में नर्सरी तैयार कर लेनी चाहिए।

इस किस्म की मिर्च का रंग पकने के बाद लाल हो जाता है।

इसमें ओलियोरेसिन नामक औषधीय गुण भी होता है। सिंदूरी काशी की मिर्च में रंगीन पिगमेंट होता है, जिसके बारे में दावा किया जाता है कि इसे सब्जी के साथ-साथ कॉस्मेटिक्स में लिपस्टिक बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह लाखों नागरिकों को सौंदर्य प्रसाधनों में इस्तेमाल होने वाले सिंथेटिक रंगों के हानिकारक प्रभावों से बचाएगा।

खेत कैसे बनाते हैं-

खेत तैयार करते समय प्रति हेक्टेयर 20-30 टन खाद या गोबर का प्रयोग करना चाहिए। इसके बाद मिर्च के बीज बोए जाते हैं। बुवाई के 30 दिन बाद पौधों को 45 सेंटीमीटर की दूरी पर लगाना चाहिए, ताकि पौधों के बीच की दूरी बनी रहे।

प्रत्येक पंक्ति के बीच की दूरी 60 सेंटीमीटर होनी चाहिए। इस मिर्च की खेती के लिए अधिक उर्वरकों का प्रयोग किया जाता है। मिर्च के लिए प्रति हेक्टेयर 120 किग्रा नाइट्रोजन, 80 किग्रा फॉस्फोरस और 80 किग्रा पलाश की आवश्यकता होती है।

इस किस्म के पौधे व्यापक हैं, एन्थ्रेक्नोज रोग के प्रतिरोधी हैं। मिर्च के फल बुवाई के 95-100 दिन बाद पकते हैं और इसके फल 10-12 सेंटीमीटर लंबे और 1.1-1.3 सेंटीमीटर मोटे होते हैं। इसकी औसत उपज 140 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है।

बाजार में इस मिर्च की ऊंची कीमत मिलती है। जहां सामान्य मिर्च 30 रुपये किलो तक बिक रही है, वहीं काशी की सिंदूर मिर्च 90 रुपये किलो तक बिक रही है|

हम आपको बताना चाहेंगे कि काशी सिंदूरी किस्म का इस्तेमाल खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ कॉस्मेटिक्स बनाने के लिए भी किया जा सकता है| इससे हर्बल कॉस्मेटिक उद्योग में इसकी मांग बढ़ेगी और किसानों को अच्छी कीमत मिलेगी।

इसलिए काशी सिंदूरी किस्म की खेती फायदेमंद हो सकती है। अन्य जानकारी के लिए किसान नजदीकी कृषि विभाग से संपर्क कर सकते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *