Farmer Scheme : महाराष्ट्र में खेती के लिए पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा किसान योजना लागू की जा रही है। व्यक्तिगत कृषि योजनाओं के साथ-साथ सामूहिक कृषि योजनाओं को राज्य सरकार के माध्यम से कार्यान्वित किया जाता है।

राज्य में समेकित बागवानी विकास मिशन 2022-23 के तहत सामूहिक खेती योजना लागू की गई है। ऐसे में इच्छुक किसानों से भी सामूहिक कृषि योजना का लाभ लेने का आग्रह किया जाता है।

योजना का उद्देश्य सूखा प्रवण क्षेत्रों में बागवानी फसलों के लिए संरक्षित सिंचाई प्रदान करना है जिसके परिणामस्वरूप सूखा प्रवण क्षेत्रों में बागवानी क्षेत्र में वृद्धि हुई है। इस योजना के माध्यम से शत प्रतिशत अनुदान पर सामूहिक कृषि अनुदान योजना लागू की जा रही है।

हालांकि इस योजना के तहत लाभ लेने के लिए संबंधित किसान समूह को फलदार फसल होना अनिवार्य है। यानी इस योजना की शर्त यह है कि जो किसान सामूहिक कृषि सब्सिडी का लाभ लेना चाहते हैं, उन्हें फलों की फसल लगानी चाहिए।

हम आपकी जानकारी के लिए यहां बताना चाहेंगे कि सामूहिक कृषि सब्सिडी के पात्र किसानों के समूह को तालाब के आकार के आधार पर सब्सिडी स्वीकृत की जाएगी। यानी 34x34x4.70 मीटर साइज के सामूहिक फार्म के लिए तीन लाख 39 हजार रुपये की सब्सिडी मिलेगी।

लेकिन इसके लिए संबंधित किसानों के पास दो हेक्टेयर से पांच हेक्टेयर या उससे अधिक का बागवानी क्षेत्र होना चाहिए। साथ ही 24x24x4 मीटर आकार के सामूहिक फार्म के लिए एक लाख 75 हजार रुपये की अनुदान राशि स्वीकृत की जाएगी। लेकिन इसके लिए एक हेक्टेयर से दो हेक्टेयर उद्यानिकी क्षेत्र की आवश्यकता होती है।

अधिकारी उन किसानों से भी अपील कर रहे हैं जो इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, वे जल्द से जल्द आवेदन करें। बुलढाणा जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी एस. जी. डाबरे ने इस योजना का लाभ लेने के इच्छुक किसानों से भी अधिक से अधिक आवेदन करने की अपील की है।

हम आपकी जानकारी के लिए यहां बताना चाहेंगे कि किसानों को सामूहिक कृषि सब्सिडी प्राप्त करने के लिए पोर्टल mahadbtmahait.gov.in पर सिंचाई सुविधा श्रेणी के तहत आवेदन करना होगा। जो किसान सब्सिडी का लाभ उठाना चाहते हैं, उन्हें अधिक जानकारी के लिए कृषि कार्यालय से संपर्क करना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *