Building Construction Cost: A golden opportunity to build a cheap house! This is the reason why the prices of iron rods have fallen so much...

Building Construction Cost: घर बनाना इन दिनों बहुत महंगा व्यवसाय हो गया है। अपना घर बनाने के लिए आपको जमीन खरीदने के लिए लाखों रुपये खर्च करने पड़ते हैं और फिर उसे बनाने के लिए सीमेंट-दफन-रेत-गिट्टी जैसी चीजों पर काफी खर्च करना पड़ता है। अगर आप भी घर बनाने की सोच रहे हैं तो अभी एक अच्छा मौका है। दरअसल, स्टील-सरिया की कीमत में भारी गिरावट आई है। इसका मतलब है कि अगर आप इसे अभी खरीदते हैं, तो आपकी निर्माण लागत कम होगी।

अगले साल का इंतजार न करें-

स्टील-सरिया के दाम में बदलाव होता है तो रियल एस्टेट और कंस्ट्रक्शन सेक्टर में भी उसी हिसाब से बदलाव देखने को मिलेगा। जब इसकी कीमत बढ़ती है तो निर्माण की लागत बढ़ जाती है और जब यह सस्ता हो जाता है तो लागत काफी कम हो जाती है। दिवाली से पहले ही बार की कीमतों में गिरावट आ गई थी, लेकिन त्योहार खत्म होने के बाद इनमें फिर तेजी देखने को मिली।लेकिन अब जब 2022 खत्म होने को है, तो बार की कीमतें पिछले कुछ महीनों में एक बार फिर गिर गई हैं और दिवाली के समय से भी कम हो गई हैं। अगले साल का इंतजार करने के बजाय अभी खरीदेंगे तो फायदे का सौदा रहेगा।

बार की कीमतों में बड़ी गिरावट-

हाल ही में स्टीलमिंट के हवाले से जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अकेले इस वित्त वर्ष की पहली छमाही में स्टील की कीमतों में 40 फीसदी की गिरावट आई है। अक्टूबर में इसकी कीमत घटकर 57,000 रुपये प्रति टन पर आ गई थी।जबकि अप्रैल 2022 की शुरुआत में घरेलू बाजार में स्टील के दाम 78,800 रुपए प्रति टन के उच्च स्तर पर पहुंच गए थे। वहीं, स्टील पर 18 फीसदी जीएसटी रेट जोड़कर अप्रैल में यह करीब 93,000 रुपये प्रति टन था। हालांकि अब एक बार फिर बार की कीमत में भारी गिरावट आई है। उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ समेत तमाम राज्यों के शहरों में यह सस्ता मिल रहा है।

यहां अपने शहर के लिए नवीनतम दरें देखें –

भारत के प्रमुख शहरों में अलग-अलग तरीकों से बार दरों में कमी आई है। बार मूल्य परिवर्तन आयरनमार्ट वेबसाइट पर देखे जा सकते हैं। इससे आप आसानी से अपने शहर में साड़ी की कीमत का पता लगा सकते हैं। यहां यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बार की कीमतें प्रति टन उद्धृत की जाती हैं और सरकार द्वारा निर्धारित 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी अलग से लागू होता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *