7th Pay Commission : इस समय पूरे देश में सरकारी कर्मचारियों द्वारा सरकार पर पुरानी पेंशन योजना को लागू करने का दबाव बनाया जा रहा है| पुरानी पेंशन योजना पर पूरे देश में एक ही रान पंखुड़ी है।

राजस्थान जैसे कांग्रेस शासित राज्यों से पुरानी पेंशन योजना को बहाल कर दिया गया है और कांग्रेस ने कहा है कि अगर गुजरात में सरकार बनती है तो वह पुरानी पेंशन योजना लागू करेगी।

इसलिए महाराष्ट्र के राज्य कर्मचारी भी यह मांग कर रहे हैं कि राज्य के कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाए| इसके लिए राज्य कर्मचारी संगठनों द्वारा सरकार पर बार-बार दबाव बनाया जा रहा है और तरह-तरह के बयान दिए जा रहे हैं। राज्य के कर्मचारी अब पुरानी पेंशन योजना की अपनी मांग को लेकर आक्रामक हो गए हैं।

राज्य कर्मचारियों के इस आक्रामक रुख और 2024 के लोकसभा चुनाव की पृष्ठभूमि को देखते हुए यह अनुमान लगाया जा रहा है कि सत्तारूढ़ शिंदे सरकार भी भाजपा के साथ मिलकर पुरानी पेंशन योजना को लागू करने के लिए सकारात्मक रुख अख्तियार कर सकती है| इससे राज्य कर्मचारियों की उम्मीदों को एक बार फिर बल मिला है।

इस बीच नीति आयोग ने राज्यों द्वारा पुरानी पेंशन योजनाओं को लागू करने को लेकर चिंता जताई है। इससे पुरानी पेंशन योजना की मांग कर रहे कर्मचारी प्रभावित होंगे। दरअसल, राजस्थान में पुरानी पेंशन योजना लागू होने के बाद से नीति आयोग के वाइस चेयरमैन सुमन बेरी ने चिंता जताई है|

इससे सरकारी कर्मचारी द्वारा सवाल उठाया जा रहा है कि क्या पुरानी पेंशन योजना हमेशा के लिए बंद हो जाएगी। इस संबंध में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राज्य में केवल इसलिए पुरानी पेंशन योजना लागू नहीं की गई है, क्योंकि भाजपा इस फैसले के खिलाफ है, बल्कि राजस्थान में राज्य के हितों को ध्यान में रखते हुए पुरानी पेंशन योजना लागू की गई है|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *