Cucumber Farming : दोस्तों, हाल ही में देश में किसान (Farmer) फसल प्रणाली में बड़ा बदलाव कर रहे हैं। अब किसानों ने कम लागत और कम समय में कटाई के लिए तैयार फसलों की खेती (Farming) शुरू कर दी है। इसमें खीरे की फसल (Cucumber Crop) भी शामिल है। हमारे देश में खीरे की खेती (Cucumber Farming) बड़े पैमाने पर की जा रही है।

इस फसल की खेती हमारे राज्य के साथ-साथ पूरे देश में मुख्यतः दो मौसमों अर्थात् गर्मी और खरीफ मौसम (Kharif Season) में की जाती है। दरअसल, अब साल भर पॉलीहाउस फार्मिंग (Polyhouse Farming) या ग्रीन हाउस में खीरे की खेती आसानी से की जा सकती है। खीरा आमतौर पर गर्मी के मौसम में अपने शीतलन प्रभाव के कारण उच्च मांग में होता है, इसलिए गर्मी के मौसम में इसका सेवन बहुत फायदेमंद होता है।

खासकर गर्मियों में खीरा खाने से पेट की बीमारियां दूर रहती हैं। खीरे में 95 प्रतिशत पानी होता है, जो गर्मियों में शरीर को डिहाइड्रेट होने से रोक सकता है और इसमें कई तरह के विटामिन और पोषक तत्व होते हैं, जो त्वचा और बालों के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं। खीरा का उपयोग कच्चा, सलाद में या सब्जी के रूप में किया जाता है। ऐसे में खीरा की खेती किसानों के लिए फायदे का सौदा साबित हो सकती है।

जानकारों के अनुसार खीरा की खेती से किसानों को अच्छी खासी कमाई हो सकती है। लेकिन इसके लिए किसानों के लिए खीरे की उन्नत किस्मों की खेती करना अनिवार्य होगा। ऐसे में आज हम अपने किसान पाठक मित्रों के लिए खीरे की कुछ उन्नत किस्मों (Cucumber Variety) की जानकारी लेकर आए हैं। तो दोस्तों,बिना समय बर्बाद किए आइए जानते हैं इस बहुमूल्य जानकारी के बारे में विस्तार से।

पूरे भारत में साल भर पैदा होने वाली खीरे की किस्में इस प्रकार हैं:-

-स्वर्ण अगेती
-स्वर्ण पूर्णिमा
-पूसा उदयपंजाब सलेक्शनपूना खीरा
-पूसा संयोग
-पूसा बरखा
-खीरा 90
-कल्यानपुर हरा खीरा
-कल्यानपुर मध्यम
-खीरा 75

खीरे की विदेशी किस्में-

-जापानी लॉन्ग ग्रीनस्ट्रेट-8 पिनसेट 
-ककड़ी संकर
-पंत हाइब्रिड ककड़ी 1
-पूसा संयोजन आदि. 

Leave a comment

Your email address will not be published.