Agri News : किसी भी फसल का बीज (Seed) उस फसल के अधिक उत्पादन (Production) की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि बीज खराब गुणवत्ता का है, तो उससे उपज भी बहुत कम होती है और किसानों को आर्थिक रूप से नुकसान होता है।

वहीं दूसरी ओर गुणवत्तापूर्ण बीज किसानों को गुणवत्तापूर्ण उत्पाद देते हैं। इस दृष्टि से किसानों के लिए बीज की गुणवत्ता बहुत महत्वपूर्ण है।

इस पृष्ठभूमि के कारण, किसानों को गुणवत्तापूर्ण और प्रमाणित बीज उपलब्ध कराने के लिए, किसानों को रियायती दरों पर प्रमाणित और गुणवत्ता वाले बीज उपलब्ध होने चाहिए और प्रचार-प्रसार के लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (National Food Security Mission) और ग्राम बीजोत्पादन योजना (Village Seed Production Scheme) के माध्यम से किसानों (Farmer) को दलहन और अनाज की नई किस्मों की फसल इस रबी सीजन (rabi season) के लिए महबीज के ग्राम बीज रियायती दरों पर उपलब्ध कराए जाएंगे।

महाबीज के सांगली जिले के कोल्हापुर के जिला प्रबंधक ने किसानों से इस योजना का लाभ लेने की अपील की| जी इनामदार ने किया है। किसानों को रबी सीजन के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले बीज उपलब्ध कराने और उनके खेतों में अच्छी आय ( Farmer Income) प्राप्त करने के लिए इस योजना के माध्यम से जिलों को 428 क्विंटल बीज वितरित करने का लक्ष्य है।

इसके लिए लाइसेंस तालुका कृषि अधिकारी कार्यालय (Agriculture Officer Office) द्वारा वितरित किया जाएगा और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना के माध्यम से, दस वर्ष से कम उम्र के चने की किस्मों के लिए 45 रुपये प्रति किलोग्राम की रियायती दर और रुपये उपलब्ध कराया जाएगा।

इस योजना के अंतर्गत आने वाली चने की जाति योजना के माध्यम से महाबीज फुले विक्रम, राज विजय 202, एकेजी 1909, बीजीएम 10216 तथा विशाल एवं जैकी 9228, दिग्विजय एवं विजय जैसी किस्मों को दस वर्ष से अधिक की किस्मों में शामिल किया गया है।

10 साल से कम पुराने चने की किस्मों के लिए 70 रुपये प्रति किलो और सब्सिडी (subsidy) वाली दर 45 रुपये प्रति किलो है। दस साल पुरानी किस्म का आधार मूल्य 20 रुपये प्रति किलो की सब्सिडी के साथ 72 रुपये प्रति किलो और सब्सिडी वाली दर 52 रुपये प्रति किलो है।

इस योजना के लिए किसानों को सतबारा और आधार कार्ड की आवश्यकता होगी जिसके बाद बीज बैग प्रदान किए जाएंगे। किसानों से इस योजना का लाभ लेने का आग्रह किया गया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *