Business Idea: हाल ही में कृषि व्यवसाय में बड़ा भारी बदलाव देखने को मिल रहा है। दिलचस्प बात यह है कि, जानकार किसान भाइयों को भी खेती बदलने की सलाह दे रहे हैं। विशेष फसल प्रणाली में बदलाव से अधिक पैदावार हो सकती है। बाजार में मांग में आने वाली फसलों की खेती निश्चित रूप से पारंपरिक फसलों की तुलना में अधिक आय अर्जित कर सकती है।

किसान कुछ ऐसे पेड़ भी लगा सकते हैं जिनकी बाजार में मांग है। इसमें मालाबार नीम का पेड़, महनीम भी शामिल है। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि, मालाबार नीम का पेड़ लगाकर किसान कुछ ही सालों में करोड़पति बन सकते हैं। ऐसे में आज हम यह जानने जा रहे हैं कि, मालाबार नीम की रोपाई कर किसान किस तरह अधिक कमाई कर सकते हैं|

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार मालाबार नीम का पेड़ आम नीम से थोड़ा अलग होता है। इस पेड़ की खेती सभी प्रकार की मिट्टी में आसानी से की जा सकती है। खास बात यह है कि, इसमें ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती है, यह पौधा कम पानी में भी अच्छी तरह से विकसित हो सकता है। इसके बीज मार्च और अप्रैल के महीनों में बोना सबसे अच्छा माना जाता है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, मालाबार नीम की 4 एकड़ में 5000 पेड़ लगाए जा सकते हैं, जिसमें 2000 पेड़ खेत के तटबंध पर लगाए जा सकते हैं और 3000 पेड़ खेत के अंदर रिज पर लगाए जा सकते हैं। इसके पौधे रोपने के बाद 2 साल में 40 फीट की ऊंचाई तक बढ़ते हैं।

कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और केरल के किसान बड़े पैमाने पर इस पेड़ की खेती कर रहे हैं। इस पेड़ को लगाने के करीब पांच साल बाद पेड़ की लकड़ी बिकने के लिए तैयार हो जाती है| कहा जाता है कि, इस पेड़ की लकड़ी को सुखाने की जरूरत नहीं होती है। इस कारण इस पेड़ की लकड़ी की बाजार में काफी मांग है।

बाजार में अच्छी कीमत भी मिल रही है। इस पेड़ की लकड़ी का उपयोग ज्यादातर प्लाईवुड उद्योग में किया जाता है।
खेती से कितनी हो सकती है कमाई यह पेड़ मालाबार नीम 8 साल बाद पूरी तरह से उगता है। यानी इसकी लकड़ी को रोपण के आठ साल बाद बेचा जा सकता है। अगर 4 एकड़ में 5000 पेड़ लगाए जाएं तो किसान 50 लाख रुपए तक कमा सकते हैं।

एक पेड़ का वजन डेढ़ से दो टन होता है। इस पेड़ की लकड़ी 500 रुपये प्रति क्विंटल की दर से बाजार में बिकती है। ऐसे में एक पेड़ 6000-7000 रुपये में बिकता है, जाहिर है 4000 पेड़ लगाने के बाद किसानों को लाखों की कमाई होगी|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *