Cow Rearing : देश में एक तरफ किसान आय बढ़ाने के लिए खेती की नई तकनीक अपना रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ पशुपालन भी आय बढ़ाने में अहम भूमिका निभा रहा है|

विशेषज्ञों का कहना है कि पशुपालन उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि किसानों के लिए कृषि। पशुओं की बात करें तो गाय पालने से किसानों को बेहतर लाभ मिलता है। यह किसानों के लिए एक लाभदायक व्यवसाय भी है।

जानकारों के अनुसार किसानों के लिए गाय पालन एक आकर्षक व्यवसाय साबित हो सकता है। लेकिन किसानों द्वारा गायों की सर्वोत्तम नस्लें उगाई जानी चाहिए। किसानों को अपनी जलवायु के अनुकूल गाय की नस्ल को अपनाना चाहिए। आज हम गाय की एक विशेष नस्ल के बारे में जानने जा रहे हैं जो महाराष्ट्र की जलवायु में जीवित रहती है। आज हम डांगी गाय की नस्ल के बारे में जानने की कोशिश करेंगे।

डांगी गाय की विशेषताएं

गाय की यह देशी नस्ल विशेष रूप से अपनी दक्षता के लिए जानी जाती है, क्योंकि यह भारी बारिश और पहाड़ी क्षेत्रों में भी कुशलता से काम करती है। विचारशीलता इस नस्ल की विशेषता है। ये जातियाँ एक वर्ष में लगभग 9 महीने (जनवरी से सितंबर) अपने गाँवों से बाहर भटकती हैं और एक स्थान से दूसरे स्थान पर प्रवास करती रहती हैं।

डांगी गाय की संरचना

इस नस्ल की गाय का रंग सफेद होता है। इनके शरीर पर लाल या काले धब्बे होते हैं, जबकि शरीर मध्यम आकार का होता है। इनके सिर छोटे होते हैं और गर्दन का किनारा नीचे लटकता हुआ दिखाई देता है। कान आकार में छोटे होते हैं और कूबड़ आकार में मध्यम होते हैं। इसके अलावा सींग छोटे और मोटे होते हैं। खुर का रंग काला, छोटा और सख्त होता है। त्वचा से एक प्रकार का तेल स्रावित होता है, जो अत्यधिक वर्षा से शरीर की रक्षा करता है।

डांगी गाय की खुराक क्या होनी चाहिए

खाद्य पदार्थ – मक्का, जौ, ज्वार, बाजरा, चना, गेहूं, जई, चोकर, चावल की पॉलिश, मकई की भूसी, चूना, बड़बेरी, सूखा अनाज, मूंगफली, सरसों आदि।

हरा चारा – बरसीम, ल्यूसर्न, लोबिया, ग्वार, ज्वार, बाजरा, हाथी घास, नेपियर बाजरा, सूडान घास आदि।

सूखा चारा – बरसीम की सूखी घास, लसर्न की सूखी घास, जई की सूखी घास, भूसी मक्का, ज्वार और बाजरे की भूसी, आग बेंत, दूर्वा की सूखी घास आदि।

डांगी गाय से दूध उत्पादन

इस नस्ल की दुग्ध उत्पादन क्षमता 1200 से 1250 किलोग्राम प्रति वर्ष है। इस नस्ल की दुग्ध उत्पादन अवधि 100 से 400 दिनों की होती है। दूध में वसा की मात्रा 4.3 प्रतिशत होती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *