Farmer Scheme: Indian farmers will be hi-tech! Now 100 percent subsidy will be available on the purchase of drones; Farmers will get training here

Farmer Scheme : भारतीय कृषि अब समय बीतने के साथ परिवर्तन के दौर से गुजर रही है। साथ ही किसानों को नई तकनीकों के इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जा रहा है। नई तकनीकों के माध्यम से कृषि में किसानों की आय बढ़ाने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं।

कृषि ड्रोन भी एक नई तकनीक है। इस तकनीक से किसान कृषि में विभिन्न समस्याओं का सामना कर सकेंगे।कृषि ड्रोन की मदद से किसान समय पर और ठीक से फसलों पर छिड़काव कर सकेंगे। साथ ही इससे किसानों के स्वास्थ्य पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा।

हालांकि वर्तमान में इसका उपयोग दवा के छिड़काव के लिए किया जाता है, लेकिन वैज्ञानिक भविष्य में कृषि ड्रोन की मदद से विभिन्न नई सुविधाओं को अपडेट करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं। इस बीच, कृषि ड्रोन खरीदना किसानों के लिए अवहनीय है। इसी के चलते सरकार ने कृषि ड्रोन खरीदने पर सब्सिडी प्रदान की है।दिलचस्प बात यह है कि सरकार न सिर्फ सब्सिडी दे रही है बल्कि कृषि ड्रोन चलाने की ट्रेनिंग भी दे रही है।

केंद्र सरकार के माध्यम से पूरे देश में कृषि ड्रोन सब्सिडी योजना लागू की जा रही है। ऐसे में अगर आप इस कृषि ड्रोन को खरीदना चाहते हैं तो यह खबर खास आपके लिए है। हम आपकी जानकारी के लिए यहां बताना चाहेंगे कि केंद्र सरकार किसानों को कृषि ड्रोन खरीदने के लिए 50 फीसदी तक की सब्सिडी दे रही है।इसका मतलब है कि किसान आधी कीमत पर ड्रोन खरीद सकेंगे। कृषि ड्रोन खरीदने के लिए सरकार द्वारा 50% सब्सिडी या पांच लाख तक की सहायता प्रदान की जा रही है।

कृषि ड्रोन सब्सिडी योजना वास्तव में क्या है?

हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि केंद्र सरकार के माध्यम से शुरू की गई इस योजना के तहत ड्रोन की खरीद पर 50% सब्सिडी या स्नातक शिक्षित युवाओं, अनुसूचित जनजाति, लघु और सीमांत, महिलाओं को अधिकतम पांच लाख की सब्सिडी देने का प्रावधान है। और उत्तर पूर्वी राज्यों के किसान।. साथ ही अन्य किसानों को ड्रोन की खरीद पर 40 प्रतिशत अनुदान या अधिकतम चार लाख रुपये देने का भी इस योजना में प्रावधान किया गया है.

साथ ही केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई इस महत्वाकांक्षी योजना का लाभ प्रशिक्षण एवं परीक्षण संस्थानों, कृषि विज्ञान केंद्रों, आईसीएआर संस्थानों और राज्य के कृषि विश्वविद्यालयों को दिया गया है।उक्त योजना में इन संस्थाओं को ड्रोन की खरीद पर शत-प्रतिशत अनुदान देने का प्रावधान है।

सरकार द्वारा प्रशिक्षण भी दिया जाएगा

किसानों को न केवल ड्रोन की खरीद के लिए केंद्र सरकार से सब्सिडी मिलती है, बल्कि ड्रोन का उपयोग कैसे करें? सरकार के अधीन काम करने वाली संस्थाओं में किसानों को इन सब बातों की बारीकियां भी सिखाई जा रही हैं।केंद्र सरकार के कृषि यंत्रीकरण प्रशिक्षण एवं परीक्षण संस्थान, कृषि विज्ञान केंद्र, आईसीएआर संस्थान और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों द्वारा किसानों और शिक्षित युवाओं को ड्रोन उड़ाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

जाहिर है, कृषि ड्रोन को संभालने के लिए प्रशिक्षण बहुत जरूरी है।इसलिए न केवल सरकार ने सब्सिडी देने का प्रावधान किया है बल्कि इस योजना के तहत प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। इससे निश्चित रूप से किसानों को बड़ी राहत मिलेगी और भारतीय किसान अब हाईटेक होते दिख रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *