Farming Business Idea : हाल ही में हमारे राज्य में किसानों (Farmer) के बीच वृक्षारोपण बहुत लोकप्रिय हो रहा है। पेड़ लगाने से भी किसानों को अच्छी आमदनी (Farmer Income) हो रही है। देश में किसान अब सागौन, चंदन, महोगनी और साथ ही यूकेलिप्टस के पेड़ (Eucalyptus Tree) की खेती कर रहे हैं। खास बात यह है कि, इस पेड़ (Eucalyptus Farming) की खेती से किसान करोड़ों रुपये कमा रहे हैं।

साथियों, देश के कई राज्यों में यूकेलिप्टस का पौधारोपण किया जा रहा है। जानकारों के अनुसार इस पेड़ को लगाने से किसान कुछ ही दिनों में करोड़पति बन सकते हैं। हालांकि नीलगिरी की खेती में कुछ पहलुओं का ध्यान रखना अनिवार्य है। ऐसे में आज हम नीलगिरी की खेती (Farming) के कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं को जानने की कोशिश करने जा रहे हैं।

नीलगिरी की खेती से विलंबित आय –

दोस्तों, यूकेलिप्टस की लकड़ी का इस्तेमाल दशकों से फर्नीचर, ईंधन और पेपर पल्प बनाने में किया जाता रहा है। ऐसे में इस पेड़ की लकड़ी की बाजार में काफी मांग है और बाजार में भाव भी अच्छा है|

जानकारों के मुताबिक यूकेलिप्टस का पौधा करीब 6 साल में पेड़ बन जाता है। इस पेड़ की खेती के लिए पेड़ के बेहतर विकास के लिए तापमान 30 से 35 डिग्री के आसपास होता है जिससे लकड़ी की अच्छी पैदावार होती है। इस पौधे के अच्छी तरह विकसित होने के लिए खेत में जल निकासी की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए अन्यथा फसलों को नुकसान हो सकता है।

बुवाई से पहले करना होता है ये काम !

अन्य फसलों की तरह, यूकेलिप्टस के पौधे लगाने से पहले खेत की अच्छी तरह से खेती की जाती है। बुवाई से पहले खेत की अच्छी तरह जुताई कर लेनी चाहिए। जुताई के बाद मिट्टी को अच्छी तरह समतल कर लेना चाहिए। खेत को समतल करने के बाद 5 फुट की दूरी पर एक फुट चौड़ाई और गहराई के गड्ढे बनायें। प्रत्येक पंक्ति में 5 से 6 फीट की दूरी रखनी चाहिए।

एक हेक्टेयर में लगा सकते हैं तीन हजार पेड़-

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार अगर किसान यूकेलिप्टस लगाना चाहते हैं, तो वे अपने एक हेक्टेयर क्षेत्र में आसानी से 3000 हजार यूकेलिप्टस के पौधे लगा सकते हैं। इस पेड़ के बीज नर्सरी से आसानी से मिल जाते हैं। यूकेलिप्टस के पौधे की कीमत बाजार में 7 से 8 रुपये के बीच है। इस तरह यूकेलिप्टस की खेती के लिए इसकी खेती में महज 21 हजार से 30 हजार रुपये का खर्च आता है। इसके अलावा जानकारों का अनुमान है कि,इसके रखरखाव और सिंचाई पर हर साल 20 से 30 हजार रुपये खर्च होते हैं।

मिलेगा बंपर प्रॉफिट-

जानकारों के अनुसार एक यूकेलिप्टस के पेड़ से करीब 400 किलो लकड़ी प्राप्त होती है। इसकी एक किलो लकड़ी बाजार में 6 से 9 रुपये प्रति किलो बिकती है। यानी एक यूकेलिप्टस का पेड़ 2400 रुपये तक कमा सकता है। ऐसे में अगर एक हेक्टेयर की गणना की जाए, तो आसानी से 72 लाख रुपये तक की कमाई की जा सकती है|

Leave a comment

Your email address will not be published.