Ativrishti Nuksan Bharpai : हमारी एक कहावत विशेष रूप से प्रचलित है कि सरकारी काम करो और छह महीने इंतजार करो। प्रत्यय भी हमारे सामने बार-बार आता है। ऐसा ही कुछ सांगली जिले के किसानों के साथ हुआ।

इन किसानों को 2021 में हुए नुकसान का मुआवजा 2022 में मिल चुका है। आपकी जानकारी के लिए हम यहां बताना चाहेंगे कि दिसंबर 2021 में भारी बारिश, वापसी बारिश, बेमौसम बारिश से सांगली जिले के किसानों को भारी नुकसान हुआ।

उस समय बारिश की इस लहर से जिले में अंगूर के बागों और अन्य फसलों को भारी मात्रा में नुकसान हुआ था। इस समय नुकसान का पंचनामा किया गया और इसकी रिपोर्ट भी वरिष्ठों को सौंपी गई। उस वक्त बारिश की लहर से सांगली जिले के करीब 40 हजार किसान प्रभावित हुए थे|

अब सरकार द्वारा प्रशासन को सितंबर 2022 में इन घाटे में चल रहे किसानों को मुआवजा अनुदान देने के लिए राशि जारी की गई है। अक्टूबर माह से प्रशासन प्रभावित किसानों को मुआवजा बांट रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सांगली जिले के 39 हजार 745 क्षतिग्रस्त किसानों को 35 करोड़ 21 लाख बीस हजार रुपये की मुआवजा राशि दी जा चुकी है| सांगली जिले में दिसंबर 2021 में बेमौसम बारिश से 384 गांवों की 21000 हेक्टेयर की फसल को भारी नुकसान पहुंचा था|

इन परिस्थितियों में तत्कालीन पालक मंत्री जयंत पाटिल ने सांगली जिले में प्रभावित फसलों का पंचनामा करने का आदेश दिया था और प्रभावित किसानों को मुआवजा देने का आश्वासन दिया था|

इस बीच करीब एक साल बाद संबंधित किसानों को मुआवजा राशि मिल गई है। लिहाजा किसानों को राहत जरूर मिल रही है। देर-सवेर किसानों को मुआवजा राशि मिलने के बाद किसानों को रबी सीजन में खेती करने में सहूलियत होगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *