किसानों के लिए आय बढ़ाने के लिए काई खेती से जुड़े व्यवसाय है। जैसे की पशुपालन, मुर्गीपालन और मछली पालन।

हालाँकि यह व्यवसाय शुरू करने काफी लागत लगती है और अन्य खर्चा किसानों को उठाना पड़ता है।

अगर आप भी अपनी खेती के साथ मछलीपालन करना चाहते है तो आपके लिए काम खर्चे में तगड़ी कमाई करने वाले मछली पालन के तरीके के बारे में हम बताने वाले है। इस लेख में आप पूरा विवरण देख सकते है।

मछली पालन का व्यवसाय करने के लिए सबसे पहले एक झील बनानी पड़ती है जिसके लिए जमीन की जरूरत होती है। इस व्यापार में पहला कदम झील का निर्माण करना है।

झील बनने के बाद विशेषज्ञ की सलाह से बेस्ट पद्धति से मछली पालन किया जा सकता है। भारत एक कृषि प्रधान देश है, भारत की लगभग 55-60% आबादी कृषि व्यवसाय में लगी हुई है।

मिट्टी की लगातार निम्न गुणवत्ता और पारंपरिक खेती में लाभ की अनुपलब्धता के कारण, किसान जीविकोपार्जन के अन्य तरीकों की तलाश कर रहे हैं। ऐसे में मछली पालन एक अच्छा विकल्प है।

इस तकनीक का करे पालन मछली पालन के कई तरीके हैं लेकिन विशेषज्ञ मछली पालने वाले किसानों को बायोफ्लॉक टेकनीक (biofloc fish farming) से मछली पालने की सलाह देते है।

इस टेकनीक से कम पानी, कम जगह, कम पूंजी और कम समय में ज्यादा मुनाफा मिल सकता है।

३००% का हो सकता है मुनाफा जमीन पर छोटा तालाब बनाने में करीब 50 से 60 हजार का खर्च आता है।

कई राज्य सरकारें अपनी खेती में छोटे तालाब के निर्माण के लिए सब्सिडी भी देती हैं।

इस तरह मछली पालन किसानों के लिए एक आकर्षक व्यवसाय हो सकता है।

यदि आप मछली पालन में एक लाख रुपये का भी निवेश करते हैं, तो आप लगभग 3 लाख कमा सकते हैं।

मछली बाजार – भारत के कई राज्यों में मछली के व्यंजन बनाए जाते हैं।

होटलों और दुकानदारों को मछली बेची जा सकती है। भारत से मछली का निर्यात कई अन्य देशों में भी किया जाता है।

इसके अलावा केंद्र और राज्य सरकारें भी किसानों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए विभिन्न योजनाओं ला रही है।

किसान किसी भी डीलर से कॉन्ट्रैक्ट कर के अपनी मछली बेच कर मुनाफ कमा सकते है।

Leave a comment

Your email address will not be published.