Tractor Subsidy : किसानों के कल्याण के लिए सरकार द्वारा हमेशा विभिन्न योजनाओं को लागू किया जाता है। अहमदनगर जिले के किसानों के लिए कल्याणकारी योजना भी प्रशासन के माध्यम से क्रियान्वित की जा रही है।

अनुसूचित जाति एवं नवबौद्धों के सर्वांगीण विकास हेतु सामाजिक न्याय एवं विशेष सहायता विभाग के माध्यम से जिले में ट्रैक्टर अनुदान योजना क्रियान्वित की जा रही है। इस विभाग के माध्यम से अनुसूचित जाति एवं नव-बौद्ध स्वयं सहायता समूहों को 90 प्रतिशत उपदान पर मिनी ट्रैक्टर एवं उसकी सामग्री उपलब्ध करायी जाती है।

इस योजना के अनुसार अहमदनगर जिले में विगत दस वर्षों में 402 समूह इस योजना से लाभान्वित हुए हैं। ऐसे में आज हम जानने वाले हैं कि अहमदनगर जिला सामाजिक न्याय एवं विशेष सहायता विभाग के माध्यम से लागू की जाने वाली इस योजना के तहत किन कृषि उपयोगी चीजों पर सब्सिडी मिलती है और किन लोगों को इसका लाभ मिल सकता है|

इस योजना की पात्रता से वास्तव में किसे लाभ होगा

इस योजना के तहत अनुसूचित जाति और नव-बौद्धों के स्वयं सहायता बचत समूह को लाभ मिलेगा। साथ ही स्वयं सहायता समूह के सदस्य महाराष्ट्र राज्य के निवासी होने चाहिए। और इस सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए स्वयं सहायता समूह के कम से कम 80 प्रतिशत सदस्य अनुसूचित जाति और नव-बौद्ध समूहों के होने चाहिए। निश्चित तौर पर यह योजना सिर्फ अनुसूचित जाति और नवबौद्ध तत्वों के लिए शुरू की गई है।

क्या मिलेगा योजना के तहत इस योजना के तहत 9 से 18 हार्सपावर के मिनी ट्रैक्टर और उसकी एक्सेसरीज जैसे कल्टीवेटर या रोटावेटर और ट्रेलर के लिए 90 फीसदी सब्सिडी दी जाती है|

जानिए आवेदन करने के लिए जरूरी दस्तावेज

समूह गठन अवधि के कार्यवृत्त की फोटोकॉपी।

आवेदक स्वयं सहायता बचत समूह के अध्यक्ष सचिव के राष्ट्रीयकृत बैंक संयुक्त खाता बही की फोटोकॉपी।

समूह के सदस्यों के अधिकृत अधिकारी द्वारा जारी किया गया जाति प्रमाण पत्र।

समूह के सदस्यों के आधार कार्ड की फोटोकॉपी समूह के सदस्यों के राशन कार्ड की फोटोकॉपी।

समूह के सदस्यों के अधिकृत अधिकारी द्वारा जारी किया गया निवास प्रमाण पत्र।

प्रमाण पत्र कि समूह वर्तमान में अस्तित्व में है और स्वयं सहायता समूह के रूप में पंजीकृत है।

अध्यक्ष सचिव और अन्य सभी सदस्यों की समूह पूर्ण लंबाई की तस्वीर।

रुपये के स्टाम्प पेपर पर शपथ पत्र।

इस योजना के तहत कितनी मिलेगी सब्सिडी इस योजना के तहत मिनी ट्रैक्टर और उसकी सामग्री की खरीद पर सब्सिडी प्रदान की जाती है। इसमें मिनी ट्रैक्टर और उसके औजारों की अधिकतम कीमत तीन लाख 50 हजार रुपये आंकी गई है। पात्र लोगों को इसी सीमा तक ही सब्सिडी मिलती है। इसमें संबंधित पात्र लोगों द्वारा दस प्रतिशत स्वयं अंशदान देकर 90 प्रतिशत अनुदान अर्थात अधिकतम तीन लाख पन्द्रह हजार की अनुदान की अनुमति दी जायेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *