Agriculture News : इस साल का खरीफ सीजन किसानों के लिए काफी खतरनाक साबित हुआ है| इस साल खरीफ सीजन में किसानों को काफी नुकसान हुआ है। जुलाई और अगस्त में हुई भारी बारिश से खरीफ की फसल को नुकसान पहुंचा है और खरीफ से किसानों को काफी अच्छी आमदनी होने वाली है|

जानकारों के अनुसार खरीफ सीजन में भारी बारिश और वापसी की बारिश से भले ही नुकसान हुआ हो, लेकिन इससे रबी सीजन में बारिश की कमी नहीं होगी और रबी सीजन में बोया गया रकबा भी बढ़ जाएगा|

इस बीच, रबी सीजन के दौरान फसलों की बुवाई के लिए किसानों के पास पूंजी की कमी है, जिसके कारण किसानों को बैंकों से बड़े फसल ऋण लेने पड़ते हैं। साथियों, पुणे जिला भी भारी बारिश की चपेट में आ गया है और पुणे जिले में बारिश की वापसी अच्छी हुई है जिससे पुणे जिले में रबी सीजन में खेती का योग्य रकबा बढ़ जाएगा। इसी बीच पुणे जिले के किसानों के लिए एक बहुत ही खुशखबरी सामने आ रही है।

पुणे जिला बैंक पुणे जिले के किसानों को रबी सीजन के लिए बड़ी मात्रा में ऋण उपलब्ध कराएगा। उपलब्ध जानकारी के अनुसार रबी सीजन के लिए जिला बैंक द्वारा पुणे जिले के किसानों को 598 करोड़ 35 लाख रुपये की ऋण राशि दी जाएगी| यानी जिला बैंक ने रबी सीजन के लिए 598 करोड़ 35 लाख रुपये फसल ऋण वितरण का लक्ष्य रखा है| हम आपको बताना चाहेंगे कि, पिछले साल रबी सीजन के लिए फसल ऋण का लक्ष्य 580 करोड़ छह लाख रुपये था।

इस साल बैंक की ओर से 18 करोड़ की बढ़ोतरी की गई है। जिला बैंक में किसान भाइयों के लिए जिला बैंक से ऋण वितरण की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है| दोस्तों, बैंक के सूत्रों के अनुसार इस वर्ष बैंक ने फसल ऋण के लिए 594 करोड़ पांच लाख रुपये का लक्ष्य रखा है और किसानों को डेयरी व्यवसाय मत्स्य व्यवसाय जैसे अल्पकालिक ऋण के लिए 4 करोड़ तीन लाख रुपये उपलब्ध कराने का लक्ष्य है|

वर्तमान में पुणे जिला बैंक किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर तीन लाख तक का फसल ऋण प्रदान कर रहा है। कहा जाता है कि, रबी फसलों के अलावा बैंक पुणे जिला बैंक गन्ना, टमाटर, प्याज, आलू, केला, अंगूर, अनार, आम, गुलाब, जरबेरा, बेल मिर्च, चावल, मूंगफली जैसी कई फसलों के लिए किसानों को फसल ऋण वितरित करेगा। निश्चित रूप से पुणे डिस्ट्रिक्ट बैंक ने इस साल रबी सीजन के लिए फसल ऋण बढ़ा दिया है, जिससे किसानों को बड़ी राहत मिलेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *