पेटीएम और स्टार हेल्थ जैसे मेगा IPO के खराब प्रदर्शन केबाद लग रहा था कि केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तावित LIC के IPO के लिए सरकार कुछ टाइम लेगी।

सरकार भारतीय जीवन बीमा निगम के आईपीओ को चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में लॉन्च करने की अपनी योजना बनाए रखेगी।

नए कोविड वेरिएंट के डर के बाद बाद शेयर बाजार में गिरावट के बाद भी सरकार अपने फैसले पर अड़ी है।

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार LIC ने रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस के मसौदे और चालू वित्त वर्ष के उसके अर्धवार्षिक परिणामों के संदर्भ में बुनियादी काम किया है।

चौथी तिमाही में IPO खोलने के लिए संभावित निवेशकों के साथ शुरुआती बैठकें की हैं।

LIC ने किया अपने प्रदर्शन में सुधार देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने अपने IPO से पहले संपत्ति की गुणवत्ता में सुधार के लिए बहुत अच्छा काम किया है।

अपने प्रस्तावित IPO से पहले, LIC ने मार्च 2021 को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष के लिए अपनी संपत्ति में सुधार किया।

पॉलिसीधारकों के लिए 10% आरक्षित संशोधित कानून के अनुसार, LIC की अधिकृत शेयर पूंजी 25,000 करोड़ रुपये है।

LIC IPO का 10% हिस्सा पॉलिसीधारकों के लिए आरक्षित होगा।

क्या आपको करना चाहिए निवेश?  देखा जाए तो LIC देश की सबसे भरोसेमंद कंपनियों में से एक है।

इसलिए LIC का IPO शेयर मार्केट में गिरावट के बावजूद अच्छा प्रदर्श करने की उम्मीद है।

लाखो लोग LIC के IPO के लिए आवेदन करने वाले है। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि LIC में निवेश करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

Leave a comment

Your email address will not be published.