Heart attack symptoms: जो लोग स्वास्थ्य(Health) के प्रति जागरूक होते हैं वे नियमित व्यायाम (regular exercise) और स्वस्थ आहार का पालन करते हैं। इसके बावजूद किसी को भी हृदय रोग को हल्के में नहीं लेना चाहिए। सही जानकारी किसी की भी जान बचा सकती है।

क्यों होते हैं हार्ट अटैक?

जब हम बहुत अधिक तैलीय भोजन करते हैं और शारीरिक गतिविधियों पर ध्यान नहीं देते हैं, तो हमारे रक्त वाहिकाओं में खराब कोलेस्ट्रॉल (bad cholesterol) जमा होने लगता है,जो रक्त वाहिकाओं में रुकावट का कारण बनता है।

ऐसे में रक्त को हृदय तक पहुंचने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है, जिससे रक्तचाप बढ़ जाता है और फिर दिल का दौरा पड़ जाता है।आइए जानते हैं समय रहते इसके खतरे को कैसे पहचाना जाए।।

1. अनियमित दिल की धड़कन

जब नसों या दिल के आसपास खून के थक्के बनने लगते हैं, तो दिल की धड़कन अनियमित होने लगती है, आम तौर पर एक स्वस्थ वयस्क का दिल एक मिनट में 70 से 72 बार धड़कता है, जब यह अनियमित होने लगता है, तो जान लें कि दिल का दौरा पड़ गया है।

2. थकान

लगातार काम करने के बाद अक्सर थकान महसूस होती है, लेकिन काम का बोझ कम होने के बावजूद जब आप थकान महसूस करने लगें तो समझ लें कि कुछ तो गड़बड़ है।

इसका मतलब यह है कि रक्त वाहिकाओं में रुकावट के कारण रक्त शरीर (Body) के कई हिस्सों में ठीक से नहीं पहुंच पाता है और इससे ऊर्जा जल्दी आने लगती है और व्यक्ति कमजोर महसूस करता है।

3. सीने में दर्द(Chest pain)

सीने में दर्द के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें पेट में गैस बनना, किसी तनाव के कारण बेचैनी होना शामिल है। लेकिन यह हृदय रोग का संकेत हो सकता है। सीने में दर्द कंधे, हाथ और पीठ तक भी फैल सकता है। जब भी आपके शरीर में ये लक्षण हों, तो उन्हें नजरअंदाज करने की बजाय तुरंत जांच कराएं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *