Farmer Success Story : खानदेश को पराक्रम की भूमि के रूप में जाना जाता है। इस प्रांत के लोग सभी क्षेत्रों में अग्रणी हैं। कृषि के क्षेत्र में भी खानदेश ने पूरे महाराष्ट्र में अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

कृषि क्षेत्र में भी खानदेश प्रांत के किसान हमेशा अपने आकर्षक प्रदर्शन के कारण पूरे महाराष्ट्र का ध्यान आकर्षित करते हैं। आज हम जलगाँव जिले के चोपडा तालुका के एक प्रायोगिक किसान खांडेश्रत्ना की सफलता की कहानी जानने जा रहे हैं, जिसने जलगाँव जैसे जिले में ड्रैगन फ्रूट की सफलतापूर्वक खेती की है।

इसी के चलते इस खानदेशी किसान के इस प्रयोग की हर तरफ चर्चा हो रही है| तालुका में बरहानपुर-अंकलेश्वर राजमार्ग पर गलंगी के एक युवा किसान सुखदेव कोली ड्रैगनफ्रूट की खेती के इस प्रयोग में सफल हुए हैं। दिलचस्प बात यह है कि इस संबंध में उन्होंने यूट्यूब पर जानकारी ली है।

सुखदेव ने सांगोलिया के भामने गांव से ड्रैगनफ्रूट के बारे में यूट्यूब पर एक सूचनात्मक वीडियो देखा था। वीडियो देखने के बाद ड्रैगन फ्रूट की खेती को लेकर उनकी उत्सुकता बढ़ी और उन्होंने सोचा कि हमें भी अपने खेतों में ड्रैगन फूड की खेती करनी चाहिए।

इस संबंध में उन्होंने संबंधित वीडियो में उस व्यक्ति से संपर्क किया और पूछा कि क्या जलगांव जिले में ड्रैगन फूड उपलब्ध होगा। व्यक्ति ने कहा, बोने का प्रयास करो, पहले साल थोड़ा खर्च आएगा लेकिन उपज अच्छी होगी।

फिर उन्होंने कुछ देर सोचा और सांगोलिया और बामने गांव से ड्रैगन फ्रूट के डंठल को 25 रुपये ड्रैगन फ्रूट के तने की तरह ले आए। उसके बाद दो महीने तक इससे पौधा तैयार किया गया। फिर जून 2021 में ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए जरूरी ढांचा तैयार करने के लिए सीमेंट के खंभे लगाए गए। हर पोल पर चार पौधे रोपे गए। जैसे-जैसे पौधे बढ़ते गए, पोल को रस्सी के सहारे कदम से कदम मिलाकर पौधे से बांध दिया गया।

पोल को ऊपरी सिरे तक चढ़ाने के बाद पोल और मोटरसाइकिल का टायर बांधकर ढांचा तैयार किया गया। अगस्त 2022 को जगह-जगह फूलधरना व फलधराना शुरू हो गया। बाद में फल काफी बढ़ गया। जिस जगह से पौधे लाए गए थे वहां 24 महीने में फल आने की बात कही थी, लेकिन सुखदेव द्वारा लगाई गई ड्रैगन फ्रूट की फसल बारह महीने में ही फल देने लगी। ड्रैगन फूड को कोई रासायनिक खाद नहीं दी गई है बल्कि जैविक खाद दी गई है।

सुखदेव ने अपने 27 गुंथा खेत में ड्रैगन फ्रूट की खेती की है और ऑर्गेनिक तरीके से ड्रैगन फ्रूट का उत्पादन कर रहे हैं। निश्चय ही सुखदेव ने कृषि में क्रांति ला दी है। सुखदेव को कृषि में उनके भाई सोपान का हमेशा साथ मिला है।

खानदेश की धरती पर इन दोनों भाइयों द्वारा किया गया यह अभिनव कार्य दूसरों के लिए मार्गदर्शक होगा। वास्तव में, अहमदनगर जिले के साथ-साथ नासिक में भी किसानों ने व्यावसायिक आधार पर प्रायोगिक आधार पर ड्रैगन फ्रूट की सफलतापूर्वक खेती की है।

हालाँकि, खानदेश के तीन जिलों यानी धुले नंदुरबार और जलगाँव को देखते हुए, किसानों ने अभी तक ड्रैगन फ्रूट की खेती की ओर प्रगति नहीं की है। लेकिन इन कोली भाइयों ने अभी इसकी शुरुआत की है और संभावना है कि आने वाले समय में खानदेश में ड्रैगन फ्रूट की खेती देखने को मिलेगी|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *