Panjabrao Dakh :इस साल खरीफ सीजन में बेमौसम बारिश से किसानों को भारी नुकसान हुआ है| मानसून की शुरुआत में लंबे समय तक बारिश, जुलाई और अगस्त में भारी बारिश और मौसम की फसल कटाई की प्रक्रिया में होने वाली बारिश ने किसानों को अपनी आजीविका से वंचित कर दिया है।

अब एक बार फिर महाराष्ट्र में बारिश की संभावना जताई गई है| इस समय परभणी भूमिपुत्र के मौसम विज्ञानी पंजाबराव दख ने भविष्यवाणी की है कि महाराष्ट्र में एक बार फिर बेमौसम बारिश होगी|

इससे रबी सीजन की तैयारी कर रहे किसानों के माथे पर चिंता के बादल छा गए हैं। हम आपकी जानकारी के लिए यहां बताना चाहेंगे कि राज्य में किसान समुदाय इस समय ज्वार, चना, गेहूं और चना जैसी रबी फसलों की बुवाई की तैयारी कर रहा है।

रबी सीजन की प्रमुख फसल गेहूं भी राज्य के ज्यादातर हिस्सों में बोई जा चुकी है। कुछ जगहों पर किसान देर से गेहूं बोने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं। साथ ही खरीफ सीजन की अरहर और कपास की फसल अभी भी ज्यादातर जगहों पर खड़ी है। ऐसे में जब से पंजाब राव ने बारिश की संभावना जतायी है, किसान चिंतित हैं|

महाराष्ट्र में मानसून कब गिरेगा पंजाबराव दख द्वारा की गई अपनी नई मौसम भविष्यवाणी के अनुसार, महाराष्ट्र में 24 नवंबर के बाद बारिश के लिए अनुकूल परिस्थितियां बन रही हैं। महाराष्ट्र में 24 से बेमौसम बारिश और 27 से 28 तारीख तक महाराष्ट्र में बेमौसम बारिश जारी रहेगी।

इस बीच, पंजाबराव द्वारा की गई यह भविष्यवाणी स्थानीय प्रकृति की है और पंजाबराव दो से तीन दिनों में इसके बारे में अधिक जानकारी सार्वजनिक करने जा रहे हैं। हालांकि यह शुरुआती अनुमान है, लेकिन इतना तय है कि इससे किसानों की चिंता बढ़ गई है।

इससे किसानों को 24 तारीख तक कटाई के लिए आई फसलों की कटाई करना अनिवार्य होगा। किसानों को कटाई के बाद फसलों को सुरक्षित स्थान पर स्टोर करना भी महत्वपूर्ण है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *