Job Card Information Marathi :दोस्तों, भारत एक कृषि प्रधान देश है। ऐसे में सरकार द्वारा देश में किसानों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए हमेशा विभिन्न योजनाएं शुरू की जाती हैं। यह मनरेगा के तहत विभिन्न योजनाओं को भी लागू करता है।

मनरेगा योजना के तहत, किसानों को व्यक्तिगत सरकारी योजना का लाभ उठाने के लिए नरेगा जॉब कार्ड की आवश्यकता होती है। दोस्तों, जैसा कि आप जानते हैं कि, किसानों को समृद्ध करने के लिए मनरेगा के माध्यम से विभिन्न योजनाओं को शामिल किया गया है।

किसानों को समृद्ध बनाने के लिए मनरेगा योजना के तहत विभिन्न योजनाओं को भी संशोधित किया जा रहा है। हाल ही में कुओं के लिए सब्सिडी योजना में भी बदलाव किया गया है। अब मगेल आया विहिर सब्सिडी योजना लागू की जा रही है और सब्सिडी में लगभग एक लाख रुपये की वृद्धि की गई है।

अब किसानों को कुएं के लिए चार लाख रुपए की सब्सिडी मिलेगी। इस बीच, इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों के लिए जॉब कार्ड अनिवार्य है। ऐसे में आज हम जानेंगे कि जॉब कार्ड कैसे बनाया जाता है, किन दस्तावेजों की जरूरत होती है और इससे किसानों को क्या फायदे होते हैं।

जॉब कार्ड क्या है?

जॉब कार्ड महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के तहत बनाया गया एक कार्ड है, जो ग्रामीण परिवारों के वयस्क सदस्यों को हर वित्तीय वर्ष में 100 दिनों का रोजगार प्रदान करता है। इसका मतलब है कि, जो लोग कोई भी अकुशल श्रम करने के इच्छुक हैं उन्हें इसके माध्यम से रोजगार मिलता है।

जॉब कार्ड के जरिए ग्रामीण और किसान मजदूर की नौकरी मांग सकते हैं। मनरेगा योजना के तहत पंचायत स्तर पर होने वाले कार्यों में कार्य करने के लिए जॉब कार्ड की आवश्यकता होती है। जॉब कार्ड लोगों के काम करने के अधिकार की गारंटी देता है। नरेगा के तहत किए गए कार्यों में शामिल परिवार का विवरण जॉब कार्ड नंबर में उल्लिखित है। यानी संबंधित व्यक्ति ने जितने दिन काम किया, उसे मिलने वाला कुल वेतन उसके जॉब कार्ड में दर्ज है|

दोस्तों, जॉब कार्ड पहचान प्रमाण के लिए भी उपयोगी है। जॉब कार्ड एक महत्वपूर्ण प्रमाण है कि, आप भारतीय हैं|जॉब कार्ड की मदद से नरेगा के तहत मजदूरी मिलती है और व्यक्तिगत लाभ योजना के लिए भी जॉब कार्ड बहुत जरूरी है। नरेगा जॉब कार्ड धारक मित्रों को एक वित्तीय वर्ष में 100 दिन का रोजगार मिलता है। उक्त जॉब कार्ड धारक को केंद्र सरकार के माध्यम से 256 रुपये वेतन मिलता है।

आपको अपने पंचायत कार्यालय में जाकर जॉब कार्ड प्राप्त करने के लिए आवेदन करना होगा। दोस्तों, जॉब कार्ड बनवाने के लिए आप पंचायत कार्यालय जा सकते हैं और ग्राम रोजगार सेवक से मिल सकते हैं। फिर आवेदन की जांच के बाद आवेदक को जॉब कार्ड दिया जाता है। जॉब कार्ड प्राप्त करने के लिए आप आवश्यक दस्तावेजों की सूची नीचे देख सकते हैं 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *