Cotton Price: कपास की कीमत में उतार-चढ़ाव जारी है। इससे किसानों में कपास के बाजार भाव को लेकर असमंजस की स्थिति है। पिछले चार-पांच दिनों से कपास औसतन 9 हजार रुपये प्रति क्विंटल की दर से बिक रही थी।

लेकिन अब कपास की कीमत कम हो गई है और आज कपास का औसत बाजार मूल्य 8 हजार 30 से 8,830 के बीच है। इस बीच कृषि क्षेत्र के जानकारों ने कपास की कीमतों में तेजी की भविष्यवाणी की है।

हम आपको बताना चाहेंगे कि जानकारों ने भविष्यवाणी की है कि अक्टूबर के महीने में दीवाली के बाद कपास की कीमतों में तेजी आएगी। जानकारों की यह भविष्यवाणी सच भी हुई थी। दिवाली के बाद कपास की कीमतों में तेजी आई थी। लेकिन अब कपास की कीमत पिछले पांच दिनों से गिर रही है।

इस बीच जानकार लोगों ने कहा है कि अगले एक महीने तक कपास की कीमत में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। हालांकि, यह अनुमान लगाया गया है कि जनवरी के महीने में कपास की कीमत में एक बार फिर से बढ़ोतरी हो सकती है और कपास की औसत कीमत 9000 रुपये प्रति क्विंटल हो सकती है। इससे कपास किसानों को जरूर कुछ राहत मिलेगी।

इस बीच 90 हजार रुपए के मूल्य स्तर को ध्यान में रखते हुए कपास की बिक्री जारी रखना किसानों के लिए फायदेमंद रहेगा। जानकारों के मुताबिक चीन में अभी पूरा बाजार नहीं खुला है क्योंकि चीन में कोरोना एक बार फिर सिर उठा रहा है| ऐसे में चीन से कपास की मांग घटी है।

इससे अंतरराष्ट्रीय बाजार में कपास के बाजार भाव में उतार-चढ़ाव हो रहा है। इसका असर घरेलू कपास की कीमतों पर देखने को मिल रहा है। कुल मिलाकर, चीन से कपास की मांग में तत्काल वृद्धि की संभावना कम है और संभावना है कि जनवरी के महीने तक कपास की कीमतों में उतार-चढ़ाव बना रहेगा।

निश्चित रूप से कपास की कीमतों पर दबाव है, लेकिन कीमतों में बढ़ोतरी की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। इससे किसानों को बाजार की समीक्षा कर कपास बेचने में फायदा होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *