Chickpea Farming : इस समय पूरे भारत में रबी सीजन चल रहा है। पूरे भारत में रबी सीजन की प्रमुख फसलों की बुवाई चल रही है। कई जगहों पर समय पर और जल्दी रबी की फसल बोई गई है। रबी सीजन में गेहूं, चना, चना और सन जैसी फसलों की बड़े पैमाने पर खेती की जाती है।

चना भी हमारे राज्य में व्यापक रूप से उगाया जाता है। हमारे राज्य में यह फसल समय से बोई गई है। लेकिन कई किसान देर से या जल्दी इस फसल की बुआई कर रहे हैं। चने की बुआई मध्य दिसम्बर तक की जा सकती है।

इसी के चलते आज हम अपने किसान पाठक मित्रों के लिए चने की किस्मों की जानकारी लेकर आए हैं जिन्हें देर से बोया जा सकता है। तो आइए बिना समय बर्बाद किए इस बहुमूल्य जानकारी को विस्तार से जानते हैं।

दरअसल चने की बुआई सितंबर माह से शुरू हो जाती है। लेकिन यह देरी से बुआई दिसंबर के तीसरे सप्ताह तक जारी रहती है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार चने की खेती के लिए फंगस और लवणता से मुक्त तथा उचित जल निकास वाली उपजाऊ भूमि उपयुक्त मानी जाती है। इस फसल को 6.7-5 के बीच पीएच मान वाली मिट्टी में बोने से अधिक उपज मिलती है।

चना की पछेती बुआई के लिए पूसा 544, पूसा 572, पूसा 362, पूसा 372, पूसा 547 की बुआई करनी चाहिए। इन किस्मों के 70-80 किग्रा बीज प्रति हेक्टेयर बुआई के लिए प्रयोग किए जा सकते हैं।

इसके अलावा चने की कई किस्में होती हैं। पूसा 2085 राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र और उत्तर भारत में दिल्ली के लिए सिफारिश की गई चने की किस्म है, जो बागवानी स्थितियों के तहत प्रति हेक्टेयर 20 क्विंटल उपज देती है।

पूसा की एक अन्य किस्म हरा चना संख्या 112 है, इस किस्म की बागवानी परिस्थितियों में समय पर बोने पर 23 क्विंटल तक उपज मिलती है।

पूसा 5023 काबुली किस्म का एक ग्राम है, जो बागवानी परिस्थितियों में बोए जाने पर प्रति हेक्टेयर 25 क्विंटल तक उत्पादन देता है।

पूसा 547 किस्म को बागवानी परिस्थितियों में बोने पर 27 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उपज मिलती है। किसी भी किस्म की बुआई करने से पूर्व किसानों को अपनी भौगोलिक जलवायु के अनुसार कृषि विशेषज्ञों की सलाह से किस्मों का चयन करना अनिवार्य होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *