PPF Calculator : आज केंद्र और राज्य सरकारें लोगों को आर्थिक लाभ पहुंचाने के लिए एक से बढ़कर एक योजनाएं लागू कर रही हैं। आज हम आपको केंद्र सरकार द्वारा लागू की गई एक ऐसी योजना की जानकारी देने जा रहे हैं जिसमें आप निवेश कर बंपर लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

इस योजना में आप हर महीने सिर्फ 12 हजार का निवेश कर 2 करोड़ रुपए तक का रिटर्न पा सकते हैं। हम यहां पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF) स्कीम की बात कर रहे हैं।यह रिस्क फ्री हाई रिटर्न स्कीम है, जिसमें निवेशकों को गारंटीड रिटर्न मिलता है। आपकी जमा राशि और कार्यकाल के आधार पर यह योजना आपको करोड़पति बना सकती है, बस आपको गणित जानने की जरूरत है।

अगर आप कम जोखिम के साथ करोड़ों रुपये जुटाना चाहते हैं तो यह आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है। यह एक रिटायरमेंट-केंद्रित निवेश वाहन है, जिसे मुद्रास्फीति के समय में भी लंबी अवधि के निवेश के लिए प्राथमिकता दी जाती है।

कर छूट

इस स्कीम का एक बड़ा फायदा यह है कि इसमें निवेश करने पर आपको टैक्स बेनिफिट मिलता है। आयकर अधिनियम के अनुसार, पीपीएफ ईईई यानी छूट-छूट-छूट की श्रेणी में आता है। यानी आप इसमें सालाना 1.5 लाख का निवेश कर सकते हैं और इस पर इनकम टैक्स डिडक्शन क्लेम कर सकते हैं. इतना ही नहीं, पीपीएफ जमा पर मिलने वाले ब्याज और मैच्योरिटी राशि पर भी कोई टैक्स नहीं लगता है।

कितना ब्याज मिलता है?

पीपीएफ योजना में सरकार हर तिमाही में ब्याज में संशोधन करती है। वर्तमान दर 7.1% है। इस दर पर मिलने वाले ब्याज के आधार पर अगर आप 25 साल तक नियमित रूप से निवेश करते हैं तो आप 1 करोड़ रुपए का फंड बना सकते हैं। वहीं अगर आप 34 साल के लिए निवेश करते हैं तो आपके पास 2 करोड़ से ज्यादा तैयार होंगे।

पीपीएफ कैलकुलेटर के साथ कैलकुलेशन को समझें

अब मान लें कि आप 7.1% की मौजूदा ब्याज दर पर प्रति माह 12000 रुपये का भुगतान करते हैं। यानी कुल रु. 1,44,000 का निवेश किया। अगर आप इसे 34 साल के लिए निवेश करते हैं, तो आपको 2 करोड़ दो लाख मिलेंगे, जो परिपक्वता पर कुल 2,02,01,418 रुपये है। इन वर्षों में आपकी कुल निवेश राशि रु. 48,96,000 और आपकी कुल ब्याज आय रु. 1,53,05,418 होगा।

यानी आपको कुल 2 करोड़ दो लाख रुपए मिलेंगे, जिसमें से 1 करोड़ 53 लाख रुपए आपका नेट प्रॉफिट होगा। यहां याद रखें कि आपका ब्याज और परिपक्वता मूल्य सरकार द्वारा निर्धारित ब्याज दर पर निर्भर करता है। अगर निवेश के वर्षों में सरकार इसे बढ़ाती है तो आपका फंड बढ़ेगा, घटेगा तो घटेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *