सभी लोग अपने भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए बचत अबनाते है। हालांकि बहुत बार उनकी बचत पर टैक्स लग जाता।

है इस ऐसी ट्रिक जिससे आप टैक्स छूट पाकर बहविष्य के लिए पैसा बचा। यह तरीका बिलकुल कानूनी और सरल है।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी पीपीएफ निवेश का बहुत पुराना और भरोसेमंद जरिया है। यह अच्छे रिटर्न के साथ-साथ टैक्स बचत भी प्रदान करता है।

यह EEE (exempt-exempt-exempt) श्रेणी में एक निवेश है। इस श्रेणी में किए गए निवेश, ब्याज और परिपक्वता (Maturity) पर कोई कर नहीं लगता है।

हालाँकि, PPF में रु. 1.5 लाख रुपये तक का निवेश कर छूट योग्य है।

इस ट्रिक से 1.5 लाख से ज्यादा निवेश पर भी टैक्स छूट पा सकते है पीपीएफ में निवेशकों 1.5 लाख रुपये तक के निवेश को भी आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत आयकर से छूट प्राप्त है।

लेकिन अक्सर ऐसा होता है कि PPF निवेश की सीमा पूरी होने के बाद भी निवेशक के पास पैसा बचा रहता है।

इसलिए निवेशक अन्य पर्याय खोजते है। टैक्स एक्सपर्ट के मुताबिक अगर निवेशक शादीशुदा है तो वह अपनी पत्नी या पति के नाम से पीपीएफ अकाउंट खोल सकता है और उसमें अलग से 1.5 लाख रुपये का निवेश कर सकता है।

गौरतलब है कि यह निवेश भी टैक्स फ्री रहेगा।

PPF निवेश के अन्य फायदे एक्सपर्ट के मुताबिक जीवनसाथी के नाम से PPF खाता खोलने से निवेशक की PPF निवेश की सीमा दोगुनी हो जाएगी, हालांकि उसके बाद भी आयकर छूट की सीमा 1.5 लाख रुपये होगी।

1.5 लाख इनकम टैक्स में छूट मिलने पर भी इसके और भी कई फायदे हैं। पीपीएफ निवेश की सीमा दोगुनी होती है, हालाँकि निवेशित राशि रु. 3 लाख हो जाती है।

वही यह निवेश EEE कैटेगरी में ही रह जाता है। इस वजह से निवेश की रिटर्न टैक्स फ्री ही रहेगा।

आपको बता दें कि जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए पीपीएफ की ब्याज दर 7.1% तय की गई है।

Leave a comment

Your email address will not be published.