rabi season

Rabi Season :महाराष्ट्र में इस समय खरीफ सीजन (Kharif Season)अपने अंतिम चरण में है और अगले कुछ दिनों में रबी सीजन (Rabi Season) शुरू होने जा रहा है। दोस्तों आज हम यह जानने की कोशिश करने जा रहे हैं कि रबी के मौसम में इंटरक्रॉपिंग (Intercropping Farming)खेती से किसान किन फसलों का लाभ उठा सकते हैं।

दोस्तों, दरअसल, किसानों को दुगनी आय (Farmer Income) दिलाने में भी अंतरफसल से लाभ होता है। वहां, राज्य में किसान(Farmer) बागों में अंतर-फसल से लाखों रुपये की अतिरिक्त आय अर्जित (Farmer Income) कर रहे हैं। जानकार लोग भी किसानों को अंतरफसल (Farming) का अभ्यास करने की सलाह देते हैं।

इंटरक्रॉपिंग हाल ही में किसानों के बीच बहुत लोकप्रिय हो गया है। इस तरह से खेती करने से उत्पादन में असमानता भी भर जाती है। रानू वास्तव में यदि खेत में एक ही फसल बोई जाती है तो उस फसल की उपज कम हो जाती है तो किसानों को बहुत नुकसान होता है। लेकिन अंतरफसल में यदि एक फसल की उपज कम हो जाती है, तो इसकी भरपाई दूसरी फसल से आसानी से की जा सकती है।

ऐसे में जानकार लोग किसानों को इंटरक्रॉपिंग करने की सलाह दे रहे हैं. मराठवाड़ा संभाग के लिए मराठवाड़ा कृषि विश्वविद्यालय ने अंतरफसल खेती के संबंध में एक महत्वपूर्ण सलाह जारी की है।

विश्वविद्यालय ने किसानों को महत्वपूर्ण जानकारी दी है कि रबी सीजन के दौरान मराठवाड़ा के किसानों को कौन सी फसल इंटरक्रॉप करनी चाहिए। तो दोस्तों बिना समय बर्बाद किए आइए जानते हैं रबी सीजन के दौरान मराठवाड़ा कृषि विश्वविद्यालय द्वारा अनुशंसित इंटरक्रॉपिंग खेती।

करदाई और हरभरा :- मध्यम से भारी भूमि वाले किसान कुर्द चने की संयुक्त उपज लेने से लाभान्वित होंगे। इन दोनों फसलों को अंतरफसल के रूप में लगाया जाए तो किसानों को अच्छी आमदनी होगी।

इन फसलों को 4:2 पंक्तियों या 6:3 पंक्तियों के अनुपात में उगाने से किसानों को अतिरिक्त आय होगी। इस अंतरफसल की खेती से किसानों के लिए उत्पादन में गिरावट को कम करना संभव होगा।

जवारी और करदाई :- किसान रबी सीजन के दौरान दो फसलों ज्वारी और करदाई को अंतरफसल के रूप में खेती कर सकेंगे। इस अंतरफसल के लिए 6:3 पंक्ति अनुपात सबसे अच्छा होगा। इस अंतरफसल से किसानों को निश्चित रूप से अच्छी आमदनी होने वाली है।

Leave a comment

Your email address will not be published.