Expensive Buffalo :अखिल भारतीय किसान मेला एवं कृषि उद्योग प्रदर्शनी में इस समय पशु प्रदर्शनी (Animal Show) का आयोजन नहीं किया गया था। इससे पशु प्रेमी खासे परेशान हैं। लेकिन किसानों (Farmer) के लिए 10 करोड़ रुपये के गोलू-2 रेडा की आवक की अनुमति दे दी गई। इस प्रदर्शनी में पहुंचे इस 10 करोड़ के रेड्या ने कमाल कर दिया । गोलू 2 के मालिक को पशुपालन (Animal Husbandry) के क्षेत्र में पद्म श्री पुरस्कार भी मिल चुका है।

सरदार वल्लभभाई पटेल कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में तीन दिवसीय अखिल भारतीय किसान मेला और कृषि-उद्योग प्रदर्शनी शुरू हो गई है। यह प्रदर्शनी तीन साल बाद आयोजित की गई है, इस बार ढेलेदार रोग के कारण पशु प्रदर्शनी आयोजित नहीं की गई थी, लेकिन डॉग शो का आयोजन किया गया था।

हरियाणा के पानीपत के डीडवाड़ी गांव के किसान नरेंद्र सिंह (Farmer Narendra Singh) का रेडा गोलू 2 डॉग शो में ही आ गया और 10 करोड़ की यह वायरल भैंस (Viral Buffalo) आकर्षण का केंद्र (Viral News) बन गई है ।

गोलू टू के मालिक के मुताबिक हरियाणा में एक किसान गोलू 2 के बदले 20 एकड़ जमीन देने को तैयार था, लेकिन गोलू 2 के मालिक ने उसे बेचने से मना कर दिया| डॉग शो के आयोजक वेटरनरी कॉलेज के डीन राजीव कुमार और डॉ. अमित कुमार ने कहा कि, इस बार ढेलेदार बीमारी के चलते डॉग शो जानवरों की प्रदर्शनी नहीं है|

गोलू 2 को इस प्रदर्शनी में शामिल होने की अनुमति दी गई है, इसलिए इस 10 करोड़ के रेड्या को देखने के लिए किसान दूर-दूर से आ रहे हैं।


गोलू 2 की विशेषताएं –

1) यह रेडा मुर्रा नस्ल का है|
2) शरीर का वजन डेढ़ टन होना चाहिए|
3) ऊंचाई साढ़े पांच फीट|
4) लंबाई 14 फीट है|
5) प्रति सप्ताह वीर्य की 700-800 खुराक बेचें|
6) वीर्य 100 रुपये से 300 रुपये प्रति खुराक तक बेचा जाता है। यानी गोलू 2 से पशुपालक को 70 हजार रुपये से ढाई लाख रुपये प्रति सप्ताह की कमाई होगी|
7) ज्यादातर नाविक फरवरी से जुलाई तक बिकते हैं।

गोलू 2 की खुराक –

1) सूखा हरा चारा – 30 किलो
2) चारा – 8 किग्रा
3) खनिज मिश्रण
4) 30 से 40 हजार प्रति माह खर्च
पद्मश्री किसान नरेंद्र सिंह का कहना है कि, इस रेडा के दादा गोलू वन थे और पिता पीसी 483 थे, जो हरियाणा सरकार को उपहार में दिया गया था। गोलू 2 अब साढ़े चार साल का हो गया है। उनके पास गाय समेत 100 जानवरों का फार्म है।

प्रतियोगिता की तैयारी शुरू –

मेले में आए पद्मश्री किसान नरेंद्र सिंह का कहना है कि, आंध्र प्रदेश के एक प्रतिनिधिमंडल ने 10 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी| उसे नहीं बेचेंगे और उनके पास उसके जैसे चार बैल हैं। पांच नौकर और परिवार के सदस्य उसका बहुत ख्याल रखते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *