Pune-Aurangabad Expressway : भारतमाला परियोजना के तहत केंद्र सरकार के माध्यम से पूरे देश में एक्सप्रेस-वे का निर्माण किया जा रहा है| दिलचस्प बात यह है कि भारतमाला परियोजना के तहत बनने वाले सभी हाईवे ग्रीनफील्ड कॉरिडोर होंगे।

इस परियोजना के तहत महाराष्ट्र में विभिन्न राजमार्गों का निर्माण भी किया जा रहा है। इसमें पुणे-अहमदनगर-औरंगाबाद एक्सप्रेसवे भी शामिल है। अब इस पुणे औरंगाबाद हाईवे को लेकर एक ताजा अपडेट आया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुणे जिला कलेक्टर ने उक्त राजमार्ग के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए एक भूमि अधिग्रहण अधिकारी की नियुक्ति की है| यह स्पष्ट रूप से पुणे औरंगाबाद एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए प्रशासन के प्रयासों को दर्शाता है।

कहा जाता है कि पुणे अहमदनगर औरंगाबाद हाईवे से इन तीनों जिलों में कृषि क्षेत्र, उद्योग क्षेत्र और पर्यटन क्षेत्र को बड़ा बढ़ावा मिलेगा|यह राजमार्ग निश्चित रूप से मराठवाड़ा और पश्चिमी महाराष्ट्र के विकास में योगदान देगा।

हम यहां आपकी जानकारी के लिए बताना चाहेंगे कि उक्त राजमार्ग पुणे जिले के कुल पांच तालुकाओं भोर, पुरंदर, हवेली, दौंड और शिरूर से होकर गुजरेगा। पुणे अहमदनगर औरंगाबाद ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे भोर तालुका मौजे कांजले, वरवे बुद्रुक, कसूरडी ख.बी., कसूरडी गु.एम. और यह ग्राम शिवरे से प्रस्तावित है।

यह सदर ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे पुरंदर तालुका के थापेवाड़ी, वरवाड़ी, गाराडे, कोडित खू, चंबली, पवारवाड़ी, सासवड, हिवरे, डाइव, कालेवाड़ी और सोनोरी गांवों से होकर गुजरेगा। इसके अलावा, पुणे नगर औरंगाबाद राजमार्ग हवेली तालुका में अलंदी-महतोबाची, तारदे, वाल्टी, शिंदवाने, सोरतापवाड़ी, कोरेगांव-मूल, भवरपुर, हिंगनगांव और मीरवाड़ी गांवों के माध्यम से प्रस्तावित है।

यह हाईवे दौंड तालुका के दहितने, देवकरवाड़ी, पिलानवाड़ी, पाथेन, तेलवाड़ी, राहु, वडगांव बंदे, तकली और पनावली गांवों से होकर गुजरेगा।और यह अहमदनगर औरंगाबाद ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे शिरूर तालुका के उरलगांव, सतकरवाड़ी, दहिवाडी, अंबले, करदे, बाबुलसर खू., रंजनगांव गणपति, केरेगांव, चवनवाड़ी और गोलेगांव गांवों से होते हुए बनने जा रहा है|

यह राजमार्ग पुणे जिले के इन पांच तालुकों में कुल 44 गांवों के माध्यम से प्रस्तावित है। इस बीच, पुणे जिले में राजमार्ग के लिए आवश्यक भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया को लागू करने के लिए कलेक्टर डॉक्टर देशमुख द्वारा भूमि अधिग्रहण अधिकारियों को नियुक्त किया गया है।

केंद्र सरकार के माध्यम से भारतमाला परियोजना के तहत पुणे अहमदनगर औरंगाबाद ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा किया जा रहा है। इस हाईवे की लंबाई 268 किमी होगी। यह प्रस्तावित हाईवे सिक्स लेन या आठ लेन का होगा।

वहीं, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस हाईवे के लिए जरूरी जमीन अधिग्रहण के लिए 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया गया है| तो निश्चित तौर पर पुणे, अहमदनगर और औरंगाबाद जिले के जिन किसानों की जमीन हाइवे के लिए अधिग्रहित की जा रही है, उन्हें बड़ी रकम मिलेगी|

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *