Rice Farming : किसान (Farmer) मित्रों, चावल  (Rice Crop) हमारे देश की एक महत्वपूर्ण फसल है। इस फसल की खेती हमारे देश में खरीफ मौसम (Kharif Season) के दौरान व्यापक रूप से की जाती है। हमारे महाराष्ट्र में धान की फसल (Paddy Crop) की खेती भी बहुत उल्लेखनीय है।

Rice Farming  : धान उत्पादन में भारत का दूसरा स्थान है। हमारे देश में धान की 4000 हजार से अधिक जाति उगाई जाती हैं। लेकिन आज हम धान की कुछ चुनिंदा जाति(किस्मों) के बारे में जानने जा रहे हैं ,जो अधिक उत्पादन करने में सक्षम हैं।

तो, दोस्तों बिना समय बर्बाद किए आइए जानते हैं ,चावल की कुछ प्रमुख किस्मों (Rice Variety) और उनकी विशेषताओं के बारे में संक्षेप में।

जया धन :-

दोस्तों जानकार लोगों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार चावल की यहजाति (किस्म) कम ऊंचाई की उन्नतजाति (किस्म) है। इसके बीज लंबे और सफेद होते हैं। चावल की यह किस्म 130 दिनों में तैयार हो जाती है।

इस किस्म के चावल के पौधे की ऊंचाई 82 सेमी तक होती है। यह किस्म बीएलबी, एसबी, आरटीबी और ब्लास्ट के लिए प्रतिरोधी है। इन किस्मों की औसत उपज 50 से 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसकी खेती भारत के सभी राज्यों में की जा सकती है।

PHB-71:-

इस किस्म के बीज लंबे, चमकदार और सफेद होते हैं। इन किस्मों की धान की फसल 130 से 135 दिनों में उपज के लिए तैयार हो जाती है।इस किस्म के पेड़ की ऊंचाई 115 से 120 सेमी तक होती है। यह नस्ल बीपीएच, जीएम और ब्लास्ट रोग के प्रति सहनशील है।

औसत उपज 87 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक होती है। इस किस्म की खेती मुख्य रूप से हरियाणा, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु में की जाती है।

CSR-10:-

इस किस्म के पौधे छोटे और सफेद रंग के होते हैं। इन किस्मों की धान की फसल 115 से 120 दिनों में उपज के लिए तैयार हो जाती है। इसके पौधे की ऊंचाई 80 से 85 सेमी तक होती है।

औसत उपज 55 से 60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। इसकी खेती मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, गोवा, ओडिशा, गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक में की जाती है।इस किस्म की खेती निश्चित रूप से महाराष्ट्र के किसानों के लिए फायदेमंद होने वाली है।

IR 64 –

दोस्तों जानकार लोगों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार इस किस्म के बीज लंबे होते हैं लेकिन पौधा छोटा होता है। यह 120 से 125 दिनों में पकने के लिए तैयार हो जाती है। इसकी उपज 50 से 55 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है।

इसकी खेती मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, गोवा, ओडिशा, गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक में की जाती है। महाराष्ट्र के किसान भी इस किस्म की खेती कर सकते हैं, इस किस्म से हमारे राज्य के किसानों को फायदा होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.