Kanda Bajarbhav : प्याज किसानों के लिए एक बहुत ही चिंताजनक खबर आ रही है| प्याज की कीमतों में आज बड़ी गिरावट देखने को मिली है| वास्तव में प्याज महाराष्ट्र में उत्पादित एक प्रमुख नकदी फसल है।

इसलिए, राज्य के अधिकांश किसानों की पूरी अर्थव्यवस्था नकदी फसल के रूप में प्याज पर निर्भर है। कुल मिलाकर किसानों की आय प्याज के बाजार भाव पर निर्भर करती है।

अब जब से प्याज के दाम गिरे हैं, किसानों की आय में बड़ी कमी आएगी| पिछले साल से, सोलापुर कृषि उपज मंडी समिति प्याज की नीलामी के लिए महाराष्ट्र में विशेष रूप से लोकप्रिय हो गई है। सोलापुर एपीएमसी ने पिछले साल प्याज की सबसे अधिक आवक दर्ज की।

इस साल भी सोलापुर एपीएमसी में प्याज की रिकॉर्ड आवक हुई है। दिलचस्प बात यह है कि इस साल इस एपीएमसी में प्याज को भी बाजार में अच्छी कीमत मिल रही थी। सोलापुर एपीएमसी में, न केवल सोलापुर जिले के किसान बल्कि अन्य जिलों के किसान भी बड़ी मात्रा में प्याज बिक्री के लिए लाते हैं।

अब सोलापुर एपीएमसी में प्याज की कीमत में 1000 रुपये की गिरावट आई है| सोलापुर एपीएमसी में नौ नवंबर को हुई नीलामी में प्याज 3500 रुपये प्रति क्विंटल की दर से मिला| ऐसे में प्याज उत्पादक बंधुओं को जरूर राहत मिली, लेकिन एक सप्ताह बाद सोलापुर एपीएमसी में प्याज के भाव में 1000 रुपये की गिरावट आई है|

नौ नवंबर को हुई नीलामी में सोलापुर एपीएमसी में 21,845 क्विंटल लाल प्याज प्राप्त हुआ| साथ ही उस दिन हुई नीलामी में प्याज का न्यूनतम बाजार भाव 100 रुपये प्रति क्विंटल और अधिकतम बाजार भाव 3500 रुपये प्रति क्विंटल बताया गया| इसके अलावा बाजार में औसत भाव 1300 रुपये प्रति क्विंटल बताया गया।

लेकिन आज हुई नीलामी में सोलापुर एपीएमसी में प्याज की कीमत गिर गई है| सोलापुर एपीएमसी में आज 17,137 क्विंटल लाल प्याज प्राप्त हुआ। आज की नीलामी में प्याज का न्यूनतम बाजार भाव 100 रुपये प्रति क्विंटल और अधिकतम बाजार भाव 2400 रुपये प्रति क्विंटल रहा।

साथ ही औसत बाजार भाव 1550 रुपये प्रति क्विंटल है। यानी आज प्याज के अधिकतम भाव में 1100 रुपये की गिरावट आई है| दिलचस्प बात यह है कि आज सोलापुर एपीएमसी में 9 नवंबर की तुलना में कम आमदनी बताई गई है| ऐसे में इससे प्याज किसानों का सिरदर्द बढ़ता जा रहा है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *