7th Pay Commission : कुछ दिन पहले एक न्यूज चैनल ने राज्य सरकार के कर्मचारियों (State Government Employee) को लेकर एक बेहद सनसनीखेज खबर छापी थी|

साथियों, आपकी जानकारी के लिए हम यहां बताना चाहेंगे कि, पिछली ठाकरे सरकार ने सरकारी कर्मचारियों (Government Employee) के लिए सिर्फ पांच दिन का काम दिया है।

इससे पहले राज्य के कर्मचारियों (Central Government Employee) को केंद्र सरकार के कर्मचारियों की तरह दूसरे और चौथे शनिवार को छुट्टी मिलती थी। लेकिन पिछली ठाकरे सरकार ने राज्य कर्मचारियों के हित में फैसला सुनाया और शनिवार को भी राज्य कर्मचारियों (Employee) को छुट्टी दे दी|

ऐसे में राज्य के कर्मचारियों को बड़ी राहत मिली है| लेकिन अब एक अखबार ने खबर छापी है कि, नई शिंदे सरकार (Eknath Shinde) दफ्तर के काम के लिए बनाए गए पांच दिन के सप्ताह को रद्द कर देगी| इसके चलते प्रदेश में अलग-अलग कंटेंट की भी चर्चा हो रही है।

ऐसे में कर्मचारियों में भारी असमंजस का माहौल बन गया है| इससे कर्मचारियों के बीच एक बड़ा सवाल देखा जा सकता है कि, क्या शिंदे सरकार वाकई ठाकरे सरकार के इस फैसले को रद्द कर देगी। उक्त समाचार पत्र को दी गई जानकारी के अनुसार, मंत्रालय सहित राज्य के सभी कर्मचारी सप्ताह में केवल पांच दिन काम करते हैं, इसलिए उन्हें एक दिन में काम के घंटों से ज्यादा घंटे काम करना पड़ता है|

इसी के चलते इस समाचार पत्र में उल्लेख किया गया है कि, राज्य की कुछ महिला कर्मचारियों ने उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात कर अपनी समस्याएं बताईं| इतना ही नहीं अखबार में एक और तर्क का जिक्र किया गया है|अखबार को दी गई जानकारी के मुताबिक राज्य में कई सालों से भर्ती प्रक्रिया लागू नहीं हुई है|

इससे कर्मचारियों पर काम का अतिरिक्त बोझ पड़ रहा है। ऐसे में एक अखबार में खबर छपी कि नई शिंदे सरकार पिछली ठाकरे सरकार के फैसले को पलट देगी और एक बार फिर राज्य के कर्मचारियों को शनिवार को काम पर आना होगा| लेकिन इस रिपोर्ट का खंडन किया गया है। इस रिपोर्ट का खंडन करने के लिए महाराष्ट्र मिनिस्ट्रियल ऑफिसर्स एसोसिएशन की ओर से एक सर्कुलर भी जारी किया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *