अब तक सभी को ज्ञात हो गया है की नए साल से काई बदलाव किया है। इसमें मुख्या तौर पर GST शामिल है। सरकार के इस निर्णय का सीधा असर आम आदमी और छोटे व्यापारियों पर होने वाला है।

आम आदमी को महंगाई का सामना करना पड़ेगा, वही छोटे व्यापरियों को अन्य मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा। प्राप्त जानकारी अनुसार नए साल में व्यापारियों को कई GST नियमों के बदलाव का सामना करना पड़ सकता है।

इसका सीधा असर व्यापारियों पर पड़ेगा। अब व्यापारियों के लिए इनपुट टैक्स क्रेडिट मिलने में मुश्किल हो सकती है। साथ ही रिटर्न दाखिल करने में कोई गलती होने पर कर अधिकारी (Tax Inspector) उनका दरवाजा भी खटखटा सकते हैं।

सरकार ने कई विवादस्पद नियम भी बनाए है। इस नियम तहत Tax Inspector के गलत आकलन को चुनौती देने के लिए पहले ही 25 प्रतिशत जुर्माना एडवांस में जमा करना पड़ेगा।

यह सभी नियम एक जनवरी से लागू होने वाले है। इन नए कानूनों के बाद छोटे व्यापारियों की नींद उड़ गई है।

GST चोरी और फर्जी बिल समेत गतिविधियों पर रोक लगाने के मकसद से सरकार ये नियम ला रही है।

इस साल के बजट में ही इसकी घोषणा की गई थी। इस संबंध में MSME व्यापारियों का कहना है कि नए विधेयक से व्यापारिओं का उत्पीड़न तो बढ़ेगा ही साथ ही भ्रष्टाचार को भी बढ़ावा मिलेगा।

नए कानून से छोटे कारोबारियों की तिमाही रिटर्न दाखिल करने की मुश्किल बढ़ेगी. ऐसा इसलिए क्योंकि इनपुट टैक्स क्रेडिट लेने के लिए हर महीने रिटर्न फाइल करना जरूरी होगा।

एक बार रिटर्न फ़ाइल करने गलती होती है तो उसे सुधरने का मौका भी नहीं मिलेगा। इसलिए व्यापारियों ने सरकार और जीएसटी परिषद से इन नियमों पर पुनर्विचार करने की अपील की है।

Leave a comment

Your email address will not be published.