साल 2020 से शुरू कोरोना महामारी के दौरान रेलवे और हवाई यातायात पर काफी प्रभाव पड़ा। मन जा रहा था कि कोरोना महामारी की वजह से रेलवे को काफी घटा हुआ है और रेलवे काफी वित्तीय नुकसान में चल रही है।

इसी बिच खबर आई है की कोरोना महामृ के दौरान भी रेलवे ने तगड़ी कमाई की है। आइए जानते है रेलवे की कमाई का विवरण

वर्ष 2020-21 के की कमाई मध्यप्रदेश के एक RTI कार्यकर्ता द्वारा दाखिल RTI के जवाब में यह जानकारी मिल पाई।

मिली जानकारी के अनुसार भारतीय रेलवे ने 2020-21 के दौरान तत्काल टिकट शुल्क के माध्यम से 403 करोड़ रुपये, प्रीमियम तत्काल टिकट के माध्यम से अतिरिक्त 119 करोड़ रुपये और और गतिशील किराए (Dynamic Fare System) के माध्यम से 511 करोड़ रुपये कमाए हैं।

हालांकि, कोरोना वायरस महामारी के कारण, वर्ष के दौरान अधिकांश रेलवे रूट्स कुछ समय के लिए बंद कर दिए गए थे। रेलवे के पास ‘डायनेमिक’ फेयर सिस्टम (Dynamic Fare System) है जिसमें मांग के हिसाब से किराए तय किए जाते हैं।

चंद्रशेखर गौड़ द्वारा दायर एक आरटीआई याचिका के जवाब में, रेलवे ने कहा कि उन्होंने वित्तीय वर्ष 2021-22 में सितंबर तक गतिशील किराए से 240 करोड़ रुपये, तत्काल टिकट से 353 करोड़ रुपये और प्रीमियम तत्काल शुल्क से 89 करोड़ रुपये कमाए हैं।

वर्ष 2019-20 की कमाई वित्तीय वर्ष 2019-20 में, जब ट्रेन संचालन पर कोई प्रतिबंध नहीं था, रेलवे ने गतिशील किराए (Dynamic Fare System) से 1,313 करोड़ रुपये, तत्काल टिकट शुल्क से 1,669 करोड़ रुपये और प्रीमियम टिकट से 603 करोड़ रुपये कमाए थे।

हालाँकि माना जा रहा है कि तत्काल टिकट पर लगाए गए शुल्क कुछ हद तक अनुचित हैं और विशेष रूप से उन यात्रियों पर बोझ हैं जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और अपने परिवार और रिश्तेदारों से मिलने के लिए तुरंत यात्रा करने के लिए मजबूर हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *