Farming Business Idea : भारत का भूमि क्षेत्र दुनिया भर में खानदेशी के रूप में प्रसिद्ध है। हमारे देश की लगभग आधी आबादी पूरी तरह से और विशेष रूप से कृषि पर निर्भर है। हमारे देश की अर्थव्यवस्था भी कृषि पर आधारित है।

हालांकि, अधिकांश किसानों की शिकायत है कि, उन्हें कृषि से अपेक्षित आय नहीं मिल रही है। ऐसे में जानकारों ने किसान भाइयों को खेती के साथ-साथ खेती व्यवसाय करने की सलाह दी है|

आज हम अपने किसान पाठक मित्रों के लिए भी बहुमूल्य जानकारी के साथ उपस्थित हैं जिसके बारे में कृषि के साथ-साथ कृषि व्यवसाय भी किया जा सकता है। तो दोस्तों, बिना समय बर्बाद किए आइए जानते हैं, बहुमूल्य जानकारी के बारे में विस्तार से।

मशरूम की खेती :- शाकाहारियों के मन में मशरूम का एक विशेष स्थान है। लोग इसे खाना बहुत पसंद करते हैं। प्रोटीन की बात करें तो मशरूम प्रोटीन से भरपूर होते हैं और सबसे अच्छी बात यह है कि, आपको जोतने की जरूरत नहीं है और मशरूम उगाने के लिए आपको ज्यादा जमीन की जरूरत नहीं है।

आप चाहें तो केवल एक कमरे में मशरूम उगा सकते हैं। मशरूम की सभी प्रजातियों में बटन मशरूम की सबसे अधिक मांग है। बटन मशरूम कुल मशरूम उत्पादन (mushroom production) का 73% हिस्सा है। भारत में वार्षिक मशरूम उत्पादन 4.3 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।

जैविक खाद व्यवसाय :- जैविक खाद निर्माण व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है। जिसे कोई भी किसान आसानी से शुरू कर सकता है और इस व्यवसाय को कभी भी बंद नहीं करना चाहता क्योंकि हर किसी को किसी भी बगीचे, बगीचे या पौधे की अच्छी वृद्धि के लिए खाद या जैविक खाद की आवश्यकता होती है,

तो ऐसे में ऑर्गेनिक फर्टिलाइजर मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। इसके लिए आपको हमेशा रिसर्च और मार्केटिंग करनी चाहिए ताकि यह जांचा जा सके कि इस प्रकार के जैविक खाद्य खाद की बहुत मांग है और कौन से उर्वरक किस फसल के लिए अच्छे हैं।

कुक्कुट पालन व्यवसाय :- आप सभी ने कभी न कभी तो सुना ही होगा, चाहे रविवार हो या सोमवार, हर दिन अंडे खाएं। ऐसे में बिजनेस शुरू करने के लिए आप पोल्ट्री फार्म खोलने पर जरूर विचार कर सकते हैं। उसके लिए आपको मुर्गियों को रखने के लिए खेत और चारागाह की व्यवस्था करनी होगी।

अगर पोल्ट्री फार्म का कारोबार छोटे पैमाने पर करना है तो करीब 50 हजार की पूंजी लगानी होगी। यदि आप इसे बड़े पैमाने पर करना चाहते हैं, तो आपको अपने नजदीकी संरक्षण विभाग में पंजीकरण करना होगा और अपने फॉर्म का नाम भी बताना होगा।

इससे पहले आपको मुर्गियों की अच्छी नस्ल जैसे वनराज, ग्रामप्रिय, कृष्ण, कड़कनाथ आदि का चयन करना होगा। अंडा उत्पादन में भारत का तीसरा स्थान है। आप निश्चित रूप से इस व्यवसाय को करके अच्छा लाभ कमा सकते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *